गुप्त नवरात्रि में जरूर करें इस कथा का श्रवण

आप सभी को बता दें कि हिन्दू धरम में 4 नवरात्रि होती है. ऐसे में 3 जुलाई से नवरात्रि शुरू हो रही है और इस बार की नवरात्रि गुप्त नवरात्रि है. इस नवरात्र में पूजा बहुत ही कठोर तप से की जानी चाहिए. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं गुप्त नवरात्र पौराणिक कथा, जो आपको नवरात्र के नौ दिनों में सुननी चाहिए.

गुप्त नवरात्रि की कथा – गुप्त नवरात्र के महत्व को बताने वाली एक कथा भी पौराणिक ग्रंथों में मिलती है कथा के अनुसार एक समय की बात है कि ऋषि श्रंगी एक बार अपने भक्तों को प्रवचन दे रहे थे कि भीड़ में से एक स्त्री हाथ जोड़कर ऋषि से बोली कि गुरुवर मेरे पति दुर्व्यसनों से घिरे हैं जिसके कारण मैं किसी भी प्रकार के धार्मिक कार्य व्रत उपवास अनुष्ठान आदि नहीं कर पाती. मैं मां दुर्गा की शरण लेना चाहती हूं लेकिन मेरे पति के पापाचारों से मां की कृपा नहीं हो पा रही मेरा मार्गदर्शन करें. तब ऋषि बोले वासंतिक और शारदीय नवरात्र में तो हर कोई पूजा करता है सभी इससे परिचित हैं. लेकिन इनके अलावा वर्ष में दो बार गुप्त नवरात्र भी आते हैं इनमें 9 देवियों की बजाय 10 महाविद्याओं की उपासना की जाती है.

यदि तुम विधिवत ऐसा कर सको तो मां दुर्गा की कृपा से तुम्हारा जीवन खुशियों से परिपूर्ण होगा. ऋषि के प्रवचनों को सुनकर स्त्री ने गुप्त नवरात्र में ऋषि के बताये अनुसार मां दुर्गा की कठोर साधना की स्त्री की श्रद्धा व भक्ति से मां प्रसन्न हुई और कुमार्ग पर चलने वाला उसका पति सुमार्ग की ओर अग्रसर हुआ उसका घर खुशियों से संपन्न हुआ.

गुस्से वाले ही नहीं बहुत दयालु है शनिदेव
जाने क्या हुआ था जब राजकुमारी पर फ़िदा हो गए थे देवर्षि नारद

Check Also

इन बातों को कभी ना करें किसी से साझा, नहीं तो हो सकती है समस्या

आचार्य चाणक्य ने अपने नीति ग्रंथ मतलब चाणक्य नीति में इंसान के जीवन को सरल …