धर्म समाचार

मनुष्य के लिए अन्न के दान को सबसे बड़ा दान बताया गया है: धर्म

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियो में मनुष्य के लिए बहुत उपयोगी बातें बताई हैं। चाणक्य बहुत विद्वान थे। उन्हें हर विषय की गहरी समझ थी। उन्होंने नीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, राजनीतिशास्त्र आदि की रचना की। इन्हें कौटिल्य भी कहा जाता है।  इन्होंने तक्षशिला से शिक्षा प्राप्त की और वहीं पर शिक्षक भी हुए। आचार्य चाणक्य ने मनुष्य के को सफल बनाने कई महत्वपूर्ण …

Read More »

धर्म: पितृपक्ष पर श्राद्ध कर्म करने पर पितृदोषों से मुक्ति मिल जाती है

हर वर्ष पूर्वजों को तर्पण और उनके प्रति श्रद्धा भाव व्यक्त करने लिए हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद पूर्णिमा तिथि से लेकर आश्विन माह की सर्वपितृ अमावस्या तक का समय पितृपक्ष कहलाता है। पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का यह महापर्व आरंभ होने जा रहा है। पितृपक्ष के दौरान हमारे पूर्वज पितरलोक से धरती पर अपने प्रियजनों के पास आते …

Read More »

दक्षिण भारत में ओणम का त्योहार बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है: धर्म

दक्षिण भारत में ओणम का त्योहार बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। ओणम मनाने के लिए देश-विदेश तक के लोग आते हैं। यह एक सांप्रादायिक सद्भावना का पर्व है। इस पर्व को हर धर्म के लोग मिल जुलकर मनाते हैं। यह त्योहार पूरे दस दिनों तक चलता है। यह उल्लास, उमंग और परंपराओं से भरा हुआ त्योहार है। …

Read More »

भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी कहा जाता है: धर्म

भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इसे अनंत चौदस भी कहते हैं। इसे भगवान विष्णु का समर्पित किया जाता है, इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु के अनंत रूप की पूजा की जाती है। इसी दिन गणेश उत्सव का समापन भी होता है। इसलिए इस तिथि का और भी महत्व माना गया है। …

Read More »

सुख और संपदा की मनोकामना के लिए श्री द्विज गणपति की सच्चे मन से पूजा की जाती है: धर्म

भगवान गणेश का स्वरूप बाल गणपति के रूप में है। भगवान के इस स्वरूप में उनकी छ: भुजाओं में अलग-अलग फल है और उनका शरीर लाल रंग का है। गणेश चतुर्थी पर बाल गणपति के इस इस रूप की पूजा होती है। 2. श्री तरुण गणपति – भगवान गणेश का यह स्वरूप उनके किशोर रूप को दर्शाता है। इनके इस …

Read More »