Tag Archives: अनेकों रहस्यों से भरा है सूर्यदेव का रथ

अनेकों रहस्यों से भरा है सूर्यदेव का रथ, आइए जानें

भूलोक तथा द्युलोक के मध्य में अंतरिक्ष लोक है. इस द्युलोक में सूर्य भगवान नक्षत्र तारों के मध्य में विराजमान रह कर तीनों लोकों को प्रकाशित करते हैं. जी हाँ, वहीं उत्तरायण, दक्षिणायन तथा विषुक्त नामक तीन मार्गों से चलने के कारण कर्क, मकर तथा समान गतियों के छोटे, बड़े तथा समान दिन रात्रि बनाते हैंऔर जब भगवान सूर्य मेष …

Read More »