भगवान गणेश से विवाह करना चाहती थीं तुलसी लेकिन मिला था श्राप

आपको बता दें कि आज एकदशी है और आज के दिन तुलसी विवाह होता है. ऐसे में बहुत कम लोग जानते हैं कि भगवान श्री गणेश को तुलसी नहीं चढ़ती है लेकिन क्यों इसके पीछे का कारण आज हम आपको बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं.

कथा – एक समय में धर्मात्मज नाम के राजा हुआ करते उनकी कन्या तुलसी यौवनावस्था में थी. अपने विवाह की इच्छा लेकर तुलसी तीर्थ यात्रा पर निकल पड़ी. उन्होंनें कई जगह की यात्रा कि एक स्थान पर उन्हें तरुणावस्था में भगवान श्री गणेश को तपस्या में लीन देखा. भगवान गणेश का रुप अत्यंत मोहक और आकर्षक था. तुलसी भगवान गणेश के इस रूप पर मोहित हो गई और अपने विवाह का प्रस्ताव उनके समक्ष रखने के लिए उनका ध्यान भंग कर दिया.

भगवान गणेश ने स्वयं को ब्रह्मचारी बताते हुए तुलसी का विवाह प्रस्ताव ठुकरा दिया. तुलसी को भगवान गणेश के इस रुखे व्यवहार और अपना विवाह प्रस्ताव ठुकराए जाने से बहुत दुख हुआ और उन्होंने आवेश में आकर भगवान गणेश को दो विवाह होने का शाप दे दिया. इस पर श्री गणेश ने भी तुलसी को असुर से विवाह होने का शाप दे डाला और बाद में तुलसी को अपनी भूल का अहसास हुआ और भगवान गणेश से क्षमा मांगी और कहा ना तुम्हारा शाप खाली जाएगा ना मेरा.

मैं रिद्धि और सिद्धि का पति बनूंगा और तुम्हारा भी विवाह राक्षस जलंधर से अवश्य होगा लेकिन अंत में तुम भगवान विष्णु और श्री कृष्ण की प्रिया बनोगी और कलयुग में भगवान विष्णु के साथ तुम्हें भी पूजा जाएगा लेकिन मेरी पूजा में तुलसी का प्रयोग नहीं कर सकेंगे.

घर पवित्र करने के लिए गणपति जी की करे इस प्रकार स्थापना
भगवान गणेश से विवाह करना चाहती थीं तुलसी लेकिन मिला था श्राप

Check Also

भैरव साधना करने से होंगे संकट दूर, जानिए कब है कालभैरव अष्टमी?

भगवान शिव की तंत्र साधना में भैरव का विशेष महत्व है| भैरव वैसे तो शिव …