LATEST UPDATES

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता से आते हैं. उक्त सभी उपाय खर्चीले और श्रमसाध्य होते हैं. शनि यंत्र से शनिदेव को सहजता से प्रसन्न किया जा सकता है. यंत्र अंकों का ऐसा चमत्कार हैं जिनसे प्रत्येक ग्रह के प्रकोप को शांत किया जा सकता है. शनिदेव का यंत्र 11 गुणा …

Read More »

चंद्रायण व्रत से सभी पापों का होता है प्रायश्चित, चंद्रमा का बढता है प्रभाव

ज्योतिष के अनुसार चंद्रमा पृथ्वी के सबसे नजदीक का ग्रह है. इसे ग्रहों में माता का दर्जा दिया गया है. माता के स्थान को पाने से ही इसके प्रभाव को समझा जा सकता है. विश्व में सभी पंचांगों की रचना सूर्य और चंद्रमा की गति गणना से की जाती है. इसमें भारतीय वैदिक ज्योतिष में गणना चंद्रमा से की जाती …

Read More »

वरुथिनी एकादशी के दिन जरूर पढ़े यह व्रत कथा

वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि कल यानी 7 मई को है। इसे वरुथिनी एकादशी कहा जाता है और इस दिन व्रत रखा जाता है। आप सभी को बता दें कि वरुथिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और वरुथिनी एकादशी व्रत की कथा का श्रवण किया जाता है। कहते हैं व्रत करने के …

Read More »

आज है वरुथिनी एकादशी, जानिए महत्व एवं पूजा का शुभ मुहूर्त

मई महीने की पहली एकादशी 7 मई 2021 के दिन यानी शुक्रवार को है. इस एकादशी को वरुथिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है. वरुथिनी एकादशी के दिन वैधृति योग के साथ विष्कुंभ योग बन रहा है। वहीँ ज्योतिष शास्त्र में वैधृति व विष्कुंभ योग को शुभ योगों में नहीं गिना जाता है। कहते हैं इस दौरान शुभ कार्यों …

Read More »

आज है वरुथिनी एकादशी, जानिए आज का पंचांग, शुभ और अशुभ मुहूर्त

आज के समय में लोग अपने दिन की शुरुआत पंचांग देखकर करते हैं। ऐसे में आज हम लेकर आए हैं आज का यानी 7 मई का पंचांग। 7 मई का पंचांग- राहुकाल पूर्वाह्न 10 बजकर 30 मिनट से 12 बजे तक एकादशी तिथि अपराह्न 03 बजकर 33 मिनट तक उपरांत द्वादशी तिथि का आरंभ, पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र मध्याह्न 12 बजकर 26 …

Read More »