शनिदेव से तो सभी डरते है पर सारे कार्य उनकी ही कृपा से बनते है

शनिदेव हमारे जीवन में बहुत ही सहाय होते है .हमारे जीवन में आयी समस्या का निवारण करते है । हिंदू धर्म ग्रंथों में शनिदेव को न्यायधीश भी कहा गया है. अर्थात अच्छे कर्म करने वाले को अच्छा तथा बुरे कर्म करने वाले को इसका दंड देने के लिए शनिदेव सदैव आगे आते है .

यही कारण है. कि गलत काम करने से लोग शनिदेव से डरते हैं। शनि के काल की अवधि लम्बी होती है। दुःख या शोक के समय, सेवा करते वक्त, कारावास में या जेल में और बुढापे में शनि का प्रभाव सर्वाधिक होता है । शास्त्र कहते हैं. की शनि हमेशा व्यक्तियों के कर्मों का निराकरण करते है.

कर्मों के अनुसार राजा को रंक और रंक को राजा बना देते है। यदि आप शनि की कृपा दृष्ष्टि चाहते है .तो अपने कर्म सुधारें, आपका जीवन अपने आप सुधर जायेगा। शनिदेव दुखदायक नहीं, सुखदायक हैं। शनिदेव ये नहीं कहते की तुम मेरी पूजा करो उनका कहना है. की अपने कर्मों को सुधारों जीवन में सदमार्ग को पकड़ों,ईमानदारी और सचाई के साथ जीवन यापन करो विपत्ति का सामना कभी न होगा. जीवन में सुख-समृद्धि आएगी .

ऐसे मनाते है विवाह पंचमी, जानिये पूजा की विधि
क्या है शनि की साढ़ेसाती और इससे निवृति, जानें कुछ खास

Check Also

आस्था का प्रमुख केंद्र है पाकिस्तान का माता हिंगलाज मंदिर

बलूचिस्तान में है माता हिंगलाज का शक्तिपीठ, जहां मुस्लिम करते हैं इसकी देखरेख माता सती के …