भारत के इस मंदिर में पानी से जलता है दीया, देखने को मिलता हैं चमत्कार

चमत्कार को नमस्कार सभी करते है और भारत के मंदिरों में तो ऐसे कई चमत्कार देखने को भी मिलते हैं। कई बार ऐसा लगता हैं कि इसके पीछे कोई छलावा तो नहीं, लेकिन सच्चाई को झुठलाया नहीं जा सकता हैं। ऐसा ही एक चमत्कार होता हैं एक देवी के मंदिर में जहां पर दीपक को जलाने के लिए घी या तेल की जरुरत नहीं होती बल्कि यहाँ पानी से दिया जलता हैं। हम जिस मंदिर की बात कर रहे हैं वह मध्य प्रदेश के शाजापुर जिले में गड़ियाघाट वाली माताजी के नाम से मशहूर हैं। यह मंदिर कालीसिंध नदी के किनारे आगर-मालवा के नलखेड़ा गांव से करीब 15 किलोमीटर दूर गाड़िया गांव के पास स्थित है। बताया जा रहा है कि इस मंदिर में पिछले पांच साल से एक महाजोत (दीपक) लगातार जलती आ रही है। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

weird news,weird incident,madhya pradesh,lamp burns with water,mata temple ,अनोखी खबर, अनोखा मामला, मध्यप्रदेश, पानी से जलता दीपक, माता का मंदिर

मंदिर के पुजारी का दावा है कि इस मंदिर में जो महाजोत जल रही है, उसे जलाने के लिए किसी घी, तेल, मोम या किसी अन्य ईंधन की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि यह आग के दुश्मन पानी से जलती है। पुजारी बताते हैं कि पहले यहां हमेशा तेल का दीपक जला करता था, लेकिन करीब पांच साल पहले उन्हें माता ने सपने में दर्शन देकर पानी से दीपक जलाने के लिए कहा। मां के आदेश के अनुसार पुजारी ने वैसा ही कार्य किया।

सुबह उठकर जब पुजारी ने मंदिर के पास में बह रही कालीसिंध नदी से पानी भरा और उसे दीये में डाला। दीये में रखी रुई के पास जैसे ही जलती हुई माचिस ले जाई गई, वैसे ही ज्योत जलने लगी। ऐसा होने पर पुजारी खुद भी घबरा गए और करीब दो महीने तक उन्होंने इस बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। बाद में उन्होंने इस बारे में कुछ ग्रामीणों को बताया तो उन्होंने भी पहले यकीन नहीं किया, लेकिन जब उन्होंने भी दीए में पानी डालकर ज्योत जलाई तो ज्योति सामान्य रूप से जल उठी। उसके बाद से इस चमत्कार के बारे में जानने के लिए लोग यहां काफी संख्या में आते हैं।

weird news,weird incident,madhya pradesh,lamp burns with water,mata temple ,अनोखी खबर, अनोखा मामला, मध्यप्रदेश, पानी से जलता दीपक, माता का मंदिर

पानी से जलने वाला ये दीया बरसात के मौसम में नहीं जलता है। दरअसल, वर्षाकाल में कालीसिंध नदी का जल स्तर बढ़ने से यह मंदिर पानी में डूब जाता है। जिससे यहां पूजा करना संभव नहीं होता। इसके बाद शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन यानी पड़वा से दोबारा ज्योत जला दी जाती है, जो अगले वर्षाकाल तक लगातार जलती रहती है। बताया जाता है कि इस मंदिर में रखे दीपक में जब पानी डाला जाता है, तो वह चिपचिपे तरल में बदल जाता है और दीपक जल उठता है।

हिन्दू पंचांग का दसवां महीना होता हैं पौष, जानें इसमें भोजन से जुड़ी खास बातें
शीघ्र विवाह के लिए करें देवगुरू बृहस्पति का पूजन

Check Also

महाभारत: इस कारण तीरों की शैया पर भीष्म को पड़ा था सोना, कर्म कभी नहीं छोड़ते पीछा

जीवन में कभी भी बुरे कर्म न करें अन्यथा किसी न किसी जन्म में कर्मफल …