चारों वेदों का सार उपनिषद है और उपनिषदों का सार गीता: धर्म

कहते हैं कि चारों वेदों का सार उपनिषद है और उपनिषदों का सार गीता है। गीता में कहा गया है कि शुक्ल पक्ष में मृत्यु को प्राप्त व्यक्ति वापस नहीं आता और कृष्ण पक्ष में मृत्यु को प्राप्त व्यक्ति को फिर जन्म लेना होता है। इसीलिए भीष्म ने अपना शरीर तब तक नहीं छोड़ा था, जब तक कि उत्तरायण का शुक्ल पक्ष नहीं आ गया था।

सामान्य रूप से लाखों लोग शुक्ल पक्ष में मरते हैं और लाखों कृष्ण पक्ष में, तो क्या शुक्ल पक्ष में मरने वाले सभी लोगों को मोक्ष मिल जाता है? क्या वे फिर जन्म नहीं लेते। दरअसल, यह बात उन लोगों के लिए है, जो योगी या अनन्य भक्त हैं। आम तौर पर व्यक्ति मरने के कुछ समय बाद दूसरा जन्म ले लेता है, लेकिन जो पाप कर्मी है, उसे नए जन्म में कठिनाई होती है।

गीता में कहा गया है कि शरीर त्यागकर गए हुए योगीजन तो वापस न लौटने वाली गति को प्राप्त होते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि शरीर का त्याग किस काल में किया गया है।

इसे ही जन्म और मरण का मार्ग कहा गया है। जिस मार्ग में अग्नि देव हैं, दिन के देवता हैं, शुक्ल पक्ष और उत्तरायण के छह महीनों के देवता हैं, उस मार्ग से गए योगीजन ब्रह्म को प्राप्त होते हैं।

जिस मार्ग में रात्रि और कृष्ण पक्ष के देवता हैं, उस मार्ग से गए सकाम योगी चंद्रमा की ज्योति को प्राप्त होते हैं और अपने शुभ कर्मों का फल भोगकर वापस आ जाते हैं (गीता अध्याय 8/24, 25)। इसका आशय यह है कि दो ही तरह के मार्ग सनातन माने गए हैं- शुक्ल और कृष्ण या देवयान और पितृयान। एक से गया हुआ व्यक्ति वापस नहीं आता और दूसरे से गया हुआ वापस आता है।

फागुन की अमावस के दिन व्रत, स्नान और पितरों का तर्पण किया जाता: धर्म
शनि से जुड़े दोष दूर करने या फिर उनकी कृपा पाने के लिए शिव की उपासना एक सिद्ध उपाय: धर्म

Check Also

अमृत की वर्षा : शरद पूर्णिमा पर चांद की रोशनी से पूरी पृथ्वी जगमगा जाती है

इस वर्ष शरद पूर्णिमा 30 अक्तूबर को मनाई जाएगी। हिंदू पंचांग के अनुसार अश्विन मास …