गुप्त नवरात्रि में करे ये उपाय, मनचाही इच्छाओं की होंगी पूर्ति

हर साल आने वाली गुप्त नवरात्रि इस साल 22 जून से शुरू हो चुकी है. ऐसे में यह पर्व नौ दिनों तक चलता है. वहीं अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ उपाय जो आप गुप्त नवरात्रि में कर सकते हैं. आइए बताते हैं.

1- धन लाभ के लिए उपाय – गुप्त नवरात्रि के दौरान किसी भी दिन सभी कार्यों से निवृत्त होकर उत्तर दिशा की ओर मुख करके पीले आसन पर बैठ जाएं. अब आप अपने सामने तेल के 9 दीपक जला लें. ये दीपक साधनाकाल तक जलते रहने चाहिए. दीपक के सामने लाल चावल (चावल को रंग लें) की एक ढेरी बनाएं फिर उस पर एक श्रीयंत्र रखकर उसका कुंकुम, फूल, धूप, तथा दीप से पूजन करें. इसके बाद एक प्लेट पर स्वस्तिक बनाकर उसे अपने सामने रखकर उसका पूजन करें. अब श्रीयंत्र को अपने पूजा स्थल पर स्थापित कर लें और शेष सामग्री को नदी में प्रवाहित कर दें. आपको बता दें कि ऐसा करने से धन लाभ होगा.

2- मनचाही दुल्हन के लिए उपाय – इसके लिए गुप्त नवरात्रि के दौरान किसी भी दिन सुबह किसी शिव मंदिर में जाएं. अब वहां शिवलिंग पर दूध, दही, घी, शहद और शक्कर चढ़ाते हुए उसे अच्छी तरह से साफ करें.अब इसके बाद शुद्ध जल चढ़ाएं और पूरे मंदिर में झाड़ू लगाकर उसे साफ करें. अब भगवान शिव की चंदन, पुष्प एवं धूप, दीप आदि से पूजा-अर्चना करें. ध्यान रहे रात 10 बजे बाद अग्नि प्रज्वलित कर ऊं नम: शिवाय मंत्र का उच्चारण करते हुए घी से 108 आहुति दें और अब 40 दिनों तक नित्य इसी मंत्र का पांच माला जाप भगवान शिव के सम्मुख करें. ऐसा करने से जल्द मनोकामना पूर्ण होगा.

3- इंटरव्यू में सफलता का उपाय – गुप्त नवरात्रि में किसी भी दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद सफेद रंग का सूती आसन बिछाकर पूर्व दिशा की ओर मुख करके उस पर बैठ जाएं. अब इसके बाद आप अपने सामने पीला कपड़ा बिछाकर उस पर 108 दानों वाली स्फटिक की माला रख दें और इस पर केसर व इत्र छिड़क कर इसका पूजन करें. अब धूप, दीप और अगरबत्ती दिखाकर मंत्र का 31 बार उच्चारण करें. ऐसे 11 दिन तक करने से वह माला सिद्ध हो जाएगी. अब आप जब भी किसी इंटरव्यू में जाएं तो इस माला को पहन कर जाएं, लाभ होगा.

हाथ की लकीरों से जानें विवाह से जुड़ी कुछ खास बातें
लक्ष्मी जी की पानी है कृपा तो शुक्रवार के दिन इस विधि से करें माँ की पूजा, सुख-समृद्धि की होंगी प्राप्ति

Check Also

4 जुलाई यानी आज से है आषाढ़ पूर्णिमा व्रत, जाने कथा और पूजा विधि

हिंदी पंचांग के अनुसार, वर्ष के प्रत्येक महीने में पूर्णिमा अथवा चतुर्दशी के दिन पूर्णिमा …