आज है रक्षाबंधन एवं श्रावण पूर्णिमा, जानें शुभ मुहूर्त, दिशाशूल एवं राहुकाल

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आज सावन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि और दिन सोमवार है। आज श्रावण पूर्णिमा और रक्षाबंधन का त्योहार है। वहीं, सावन का अंतिम सोमवार व्रत भी है। आज भगवान शिव के​ प्रिय मास सावन का अंतिम दिन है। आज के दिन लोग श्रावण पूर्णिमा का व्रत रखते हैं, स्नान दान करते हैं। वहीं बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती हैं तथा रक्षा का वचन लेती हैं। आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, राहुकाल, दिशाशूल के अतिरिक्त सूर्योदय, सूर्यास्त, चंद्रोदय, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

दिन: सोमवार, श्रावण मास, शुक्ल पक्ष, पूर्णिमा ति​​​थि।

आज का राहुकाल: प्रात: 07:30 बजे से 09 बजे तक।

आज का दिशाशूल: पूर्व

आज की भद्रा: प्रात: 09 बजकर के 26 मिनट तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: रक्षाबंधन, श्रावणी पूर्णिमा एवं सावन का अंतिम सोमवार।

विक्रम संवत 2077 शके 1942 उत्तरायण उत्तर गोल, वर्षा ऋतु श्रावण मास शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा 21 घंटे 28 मिनट तक, तत्पश्चात प्रतिपदा उत्तराआषाढ़ा नक्षत्र 06 घंटे 38 मिनट तक, तत्पश्चात आयुष्मान योग मकर में चंद्रमा।

सूर्योदय और सूर्यास्त

03 अगस्त को सूर्योदय सुबह 05 बजकर 44 मिनट पर और सूर्यास्त शाम को 07 बजकर 10 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

रक्षाबंधन के दिन चंद्रोदय शाम को 07 बजकर 15 मिनट पर होगा और चंद्र का समय नहीं है।

आज का शुभ समय

अभिजित मुहूर्त: दोपहर 12 बजे से 12 बजकर 54 मिनट तक।

अमृत काल: रात में 09 बजकर 25 मिनट से देर रात 11 बजकर 04 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 42 मिनट से दोपहर 03 बजकर 35 मिनट तक।

सर्वार्थ सिद्धि योग: सुबह में 07 बजकर 19 मिनट से 04 अगस्त को सुबह 05 बजकर 44 मिनट तक।

रवि योग: सुबह 05 बजकर 44 मिनट से 07 बजकर 19 मिनट तक।

आज सावन माह का अंतिम दिन है। आज श्रावण पूर्णिमा है। आज के दिन कई स्थानों पर लोग सत्यनारायण भगवान की कथा सुनते हैं। आज आप बहन से राखी बंधवाएं और भगवान शिव की भी आराधना करें। आज के दिन आप कोई कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।

जानें राखी बांधने का मुहूर्त, आज 29 साल पर बना है यह दुर्लभ संयोग
जानिए माता लक्ष्मी ने राजा बलि को राखी बांधकर कैसे की थी भगवान विष्णु की रक्षा

Check Also

नारद मुनि करना चाहते है विवाह, गुस्से में दिया था श्री विष्णु को श्राप

आप जानते ही होंगे नारद मुनि को ब्रह्मा जी की मानस संतान माना गया है. …