पितृ पक्ष में इस तरह अपने पितृ का करे तर्पण

पितृ पक्ष 2020 इस बार 1 सितंबर से शुरू हो रहा है हालाँकि कई ज्योतिषों के मानना है यह 2 सितंबर से शुरू हो रहा है. वैसे यह पर्व 17 सितंबर तक चलने वाला है. वहीँ हिन्दू पंचांग को माना जाए तो भाद्रपद मास की पूर्णिमा तिथि से लेकर अश्विन मास की अमावस्या तक पितृ तर्पण करते है. इस दौरान तर्पण शुभ माना जाता है.

जी दरअसल ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति इन पन्द्रह दिनों में अपने पितरों की मृत्यु तिथि के मुताबिक तर्पण करता है उसे पितरों का आशीर्वाद मिलता है और वह हमेशा उसके साथ रहते हैं. जी दरअसल जो ऐसा करता है ऐसे व्यक्ति से उसके पितृ प्रसन्न‌ होकर उसके जीवन की सभी अड़चनों को दूर करते हैं. अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं कैसे इस दौरान किया जाता है पितृ तर्पण.

कैसे किया जाता है पितृ तर्पण: कहा जाता है जिस तिथि को पितृ देव का श्राद्ध हो उस दिन बिना साबुन लगाए स्नान करना चाहिए. उसके बाद बिना प्याज-लहसुन डाले अपने पितृ देव का पसंदीदा भोजन या आलू, पुड़ी और हलवा बनाकर एक थाल में रखना चाहिए. अब उसके बाद पानी भी रख ले. अब आप हाथ में पानी लेकर तीन बार उस थाली पर घूमाएं. अब इसके बाद पितरों का ध्यान कर उन्हें प्रणाम करें. इसी के साथ में दक्षिणा रखकर किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण को दान दें. जी दरअसल इस दिन तेल लगाना, नाखुन काटना, बाल कटवाना और मांस-मदिरा का सेवन करना मना होता है. जी दरअसल कहा जाता है इस दिन पितृ को खुश रखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से वह हमेशा अपनी कृपा आप पर बनाए रखते हैं.

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का प्रतीक करमा पर्व है आज, जानिए इसकी पौराणिक कथा
श्रीकृष्ण ने पांडवों को बताया था अनंत चतुर्दशी का महत्व, जानिए...

Check Also

चैत्र नवरात्रि की रामनवमी के अगले दिन है कामदा एकादशी, बन रहें हैं पूजा के सात शुभ मुहूर्त

सनातन धर्म में एकादशी का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है. मान्यता है कि एकादशी का …