जानिए क्या है आज का पंचांग, शुभ और अशुभ मुहूर्त

शुभ और अशुभ मुहूर्त का ज्ञान आज के समय में पंचांग देखकर किया जाता है। ऐसे में आज हम लेकर आए हैं आज का यानी 6 नवम्बर का पंचांग।

6 नवम्बर का पंचांग-

राष्ट्रीय मिति कार्तिक 13 शक संवत् 1942 कार्तिक कृष्ण चतुर्थी बुधवार विक्रम संवत् 2077। सौर कार्तिक मास प्रविष्टे 19, रवि-उल्लावल 17, हिजरी 1442 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 04 नवंबर सन् 2020 ई॰।

सूर्य दक्षिणायण, दक्षिण गोल, हेमन्त ऋतु। राहुकाल मध्याह्न 12 बजे से 01 बजकर 30 मिनट तक। चतुर्थी तिथि अगले दिन तड़के 05 बजकर 15 मिनट तक उपरान्त पंचमी तिथि का आरंभ।

मृगशिरा नक्षत्र अगले दिन तड़के 04 बजकर 51 मिनट तक उपरान्त आद्र्रा नक्षत्र का आरंभ, शिव योग सूर्योदय से लेकर अगले दिन प्रातः 06 बजकर 55 मिनट तक उपरान्त सिद्ध योग का आरंभ।

बव करण सायं 04 बजकर 20 मिनट तक उपरान्त कौलव करण का आरंभ। चन्द्रमा अपराह्न 03 बजकर 43 मिनट तक उपरान्त वृष उपरान्त मिथुन राशि पर संचार करेगा।

सूर्योदय का समय 4 नवंबर: सुबह 06 बजकर 35 मिनट पर।

सूर्यास्त का समय 4 नवंबर: शाम 05 बजकर 34 मिनट पर।

आज का शुभ मुहूर्तः विजय मुहूर्त दोपहर 01 बजकर 54 मिनट से 02 बजकर 38 मिनट तक रहेगा। सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6 बजकर 35 मिनट से 5 नवंबर सुबह की 4 बजकर 51 मिनट तक। निशीथ काल मध्यरात्रि 11 बजकर 39 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक। गोधूलि मुहूर्त शाम 05 बजकर 23 मिनट से 05 बजकर 47 मिनट तक। अमृत काल शाम को 7 बजकर 12 मिनट से 8 बजकर 57 मिनट तक। ब्रह्म मुहूर्त अगले दिन सुबह 4 बजकर 52 मिनट से 5 बजकर 44 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः राहुकाल दोपहर 12 बजे से 1 बजकर 30 मिनट तक। सुबह 10 बजकर 30 मिनट से 12 बजे तक गुलिक काल रहेगा। सुबह 7 बजकर 30 मिनट से 9 बजे तक यमगंड रहेगा। दुर्मुहूर्त सुबह 11 बजकर 43 मिनट से 12 बजकर 26 मिनट तक।

इस तारीख को है अहोई अष्टमी, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
श्रीमद् भगवद्गीता में मौजूद है ये आठ महत्वपूर्ण बातें

Check Also

कब है महाशिवरात्रि का पर्व, जानिए तिथि ,निशिता काल और पूजा का शुभ मुहूर्त

भगवान शिव का सभी देवताओं में प्रमुख स्थान है. भगवान विष्णु जब पाताल लोक में …