कमल का फूल कब और क्यों चढ़ाएं?

untitled-6_1448633141 (1)सभी देवी-देवताओं को फूल विशेष रूप से चढ़ाए जाते हैं। फूल अर्पित किए बिना कोई भी पूजा पूरी नहीं मानी जाती है। वैसे तो लगभग सभी प्रकार के फूल भगवान को चढ़ाए जाते हैं, लेकिन फूलाें में कमल का विशेष स्थान है। कमल का फूल सभी देवी-देवताओं को बहुत प्रिय है। कमल की सुंदरता की महिमा इसी बात से सिद्ध होती है कि भगवान के नेत्रों की तुलना कमल के फूल से की जाती है।
 
कमल का फूल का भगवान को विशेष प्रिय क्यों हैं? इसके कई कारण है जैसे: कमल पवित्रता का प्रतीक है, इसकी सुंदरता और सुगंध सभी का मन मोहने वाली होती है। साथ ही, कमल यह संदेश देता है कि हमें कैसे जीना चाहिए। कमल कीचड़ में उगता है और उससे ही पोषण लेता है, लेकिन हमेशा कीचड़ से अलग ही रहता है। कमल का फूल पूर्ण विकास दर्शाता है। सांसारिक और आध्यात्मिक जीवन किस प्रकार जिया जाए इसका सरल तरीका बताता है। संसार रूपी कीचड़ में रहते हुए भी हमें किस तरह रहना चाहिए यह शिक्षा हम कमल से ले सकते हैं।
कमल की आठ पंखुड़ियां इंसान के अलग-अलग 8 गुणों की प्रतीक हैं, ये गुण हैं दया, शांति, पवित्रता, मंगल, निस्पृहता, सरलता, ईर्ष्या का अभाव और उदारता। इसका आशय यही है कि मनुष्य जब इन गुणों को अपना लेता है तब वह भी ईश्वर को कमल के फूल के समान प्रिय हो जाता है। साथ ही, कमल में औषधीय गुण भी मौजूद हैं। इसके बीजों से मखाने बनाए जाते हैं जो कि कई बीमारियों की रोकथाम के लिए उपयोग किए जाते हैं।

 

 

कौन सी मन्नत पूरी करने के लिए करनी चाहिए किसकी पूजा
फेंगुशुर्इः घर में लगाएं सौभाग्य की गांठ, शुरू हो जाएगा अच्छा समय

Check Also

रावण अपने अधूरे 7 काम करने से पहले ही मर गया, नहीं तो…

देवताओं को भी पराजित करने वाला रावण महापंडित और महाज्ञानी था। लेकिन रावण की सबसे …