चमत्कारी है यह मंत्र, इससे गणपति होते हैं शीघ्र प्रसन्न

ganesh-1448447695-300x214आह्वान किया जाए तो वे बिना किसी बाधा के शुभ कार्य संपन्न करते हैं आैर भक्त को सफलता का वरदान देते हैं।

मंत्र

गणानां त्वा गणपतिं हवामहे प्रियाणां त्वा प्रियपतिं हवामहे

निधीनां त्वा निधिपतिं हवामहे वसो मम आहमजानि गर्भधमा त्वमजासि गर्भधम् ।।

मंगल विधान और विघ्नों के नाश के लिए गणेश जी के इस मंत्र का जाप करें-

गणपतिर्विघ्नराजो लम्बतुण्डो गजाननः।

द्वैमातुरश्च हेरम्ब एकदंतो गणाधिपः॥

विनायकश्चारुकर्णः पशुपालो भवात्मजः।

द्वादशैतानि नामानि प्रातरुत्थाय यः पठेत्॥

विश्वं तस्य भवेद्वश्यं न च विघ्नं भवेत् क्वचित्।

यह मंत्र पढ़ते हुए भगवान को माला भेंट करनी चाहिए-

माल्यादीनि सुगंधीनि मालत्यादीनि वै प्रभो ।

मयाहृतानि पुष्पाणि गृह्यन्तां पूजनाय भोः ।।

प्रातः इस मंत्र से गणपति का स्मरण करें –

प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम् ।

तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयोः शिवाय ।।

गणेश पूजा के उपरान्त इस मंत्र के द्वारा भगवान् भालचंद्र को प्रणाम करना चाहिए-

विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धिताय ।

नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते।।

पूजन के समय इस मंत्र से भगवान गणपति का ध्यान करें –

खर्व स्थूलतनुं गजेंद्रवदनं लम्बोदरं सुंदरं प्रस्यन्दन्मदगन्धलुब्धमधुपव्यालोलगण्डस्थलम।

दंताघातविदारितारिरूधिरैः सिन्दूरशोभाकरं वन्दे शलसुतासुतं गणपतिं सिद्धिप्रदं कामदम्।।

यह पढ़कर आप भी कहेंगे – बाल मन में बसते हैं भगवान
इन 2 कन्याआें के साथ हुआ था गणेशजी का विवाह, जानिए संपूर्ण कथा

Check Also

श्री राम की यह आरती देगी आपको कीर्ति

आरती आपके द्वारा की गई पूजा में आई छोटी से छोटी कमी को दूर कर …