एक ऐसा मंदिर जिसकी स्थापना खुद श्रीराम ने की थी

मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में गणेशजी का एक सिद्ध स्थान है, जिसका नाम है चिंतामन गणेश मंदिर। मान्यता है कि इस मंदिर की स्थापना भगवान श्रीराम ने की थी। यहां आने वाले भक्तों की सभी चिंताएं गणेशजी दूर करते हैं। इसीलिए इन्हें चिंतामन गणेश कहा जाता है।

3_1452244606श्रीराम ने वनवास काल में की थी इस मंदिर की स्थापना

पुरानी मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर का इतिहास रामायण काल से जुड़ा है। श्रीराम वनवास के दौरान उज्जैन भी आए थे। जब श्रीराम, सीता और लक्ष्मण के साथ इस क्षेत्र के वन में घूम रहे थे, तब सीता को प्यास लगी। सीता की प्यास बुझाने के लिए लक्ष्मण ने अपने बाण से एक बावड़ी बना दी थी। ये बावड़ी चिंतामन के पास ही स्थित है। श्रीराम को इस क्षेत्र की धरती दोषपूर्ण प्रतीत हो रही थी, इसीलिए उन्होंने यहां के दोष मिटाने के लिए गणेशजी का मंदिर स्थापित किया था। यही मंदिर चिंतामन गणेश के नाम से प्रसिद्ध है।

मंदिर में स्थापित हैं गणेशजी की तीन मूर्तियां

मंदिर में गणेशजी की तीन मूर्तियां एक साथ स्थापित हैं। सबसे बड़ी गणेश प्रतिमा को श्री चिंतामन गणेश, उसके पास स्थापित प्रतिमा को श्री इच्छामन गणेश और तीसरी प्रतिमा को श्री सिद्धि विनायक गणेश कहा जाता है।

मन्नत पूरी होने पर है दान करने की मान्यता

इस मंदिर में मन्नत मांगने के लिए भगवान को दूध, दही, चावल या नारियल में से कोई एक चीज चढ़ाई जाती है। जब मन्नत पूरी हो जाती है, तब उसी चीज का दान यहां किया जाता है। ऐसा करने से गणेशजी की कृपा हमेशा बनी रहती है।
कुरुक्षेत्र में ही क्यों लड़ा गया महाभारत का युद्ध, ये था कारण?
जब आए ऐसे सपने तो समझ लीजिए होने वाला है बड़ा लाभ

Check Also

इस पूजा से भगवान राम को मिली थी लंका पर विजय…

शास्त्रों में शिवलिंग का पूजन सबसे ज्यादा पुण्यदायी और फलदायी बताया गया है। रावण के साथ युद्ध …