पुण्य के लिए करें माता-पिता की पूजा

phpThumb_generated_thumbnail-37-287x300गायत्री परिवार व गौरेश्वर विकास समिति के तत्वावधान में जारी शिवकथा में कथाकार गिरी बापू ने श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा कि माता-पिता का सम्मान व पूजन करने से ही पुण्य मिलता है। दक्ष ने पिता ब्रह्मा की खूब सेवा की। सती ने शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए पिता दक्ष प्रजापति से हिमालय में जाकर तप करने की स्वीकृति प्राप्त की थी। कथा के दौरान बापू ने अहंकार को मानव उन्नति में बाधक बताया। पौथी व व्यास पीठ पूजन मुख्य यजमान कमलेश सिंह राव व परिवार के अलावा विधायक अनिता कटारा, कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया, प्रधान रेखा रोत, भाजपा जिला उपाध्यक्ष मुकेश पंड्या, भाजपा पूर्व जिलाध्यक्ष हरीश पाटीदार, पूर्व पालिकाध्यक्ष पवन गोवाडिया, बंधू पाठक व शिव नारायण दीक्षित ने किया।
 
औरंगजेब के अत्याचारों से यहां शिवजी ने की थी भक्तों की रक्षा
द्रोपदी ही नहीं पांडवों की ये भी थीं पत्नियां

Check Also

भगवान श्री राम के आदर्श चरित्र के बारे में जान खुद पर करें अमल

श्री रामचंद्र जी की सभी चेष्टाएं धर्म, ज्ञान, नीति, शिक्षा, गुण, प्रभाव, तत्व एवं रहस्य …