जानिए सावन में क्यों की जाती हैं भगवान शिव की पूजा

सावन का महीना शुरू हो चुका और इस साल सावन के महीने का पहला सोमवार 30 जुलाई को है. हर कोई जानता है कि इस महीने में भगवान शिव की पूजा की जाती है लेकिन आप ये जानते है कि आखिर सावन में ही भगवान शिव की पूजा इतनी ख़ास तरीके से क्यों की जाती है. ऐसा माना गया है कि जो लोग सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा पाठ पूरे विधि विधान के साथ करते हैं उन्हें सारे कष्टों से मुक्ति मिलती है.जानिए सावन में क्यों की जाती हैं भगवान शिव की पूजा

सावन के महीने में सोमवार के दिन शुद्ध गंगा जल, दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से स्नान करवाकर धूप-दीप जलाकर मंत्र का जाप करने से समस्त बाधाओं का शमन होता है. अगर आपका मन शुद्ध है और आचरण सही है तो सावन के महीने में शिव उपासना से भी मनोवांछित फल मिल सकता है.

ऐसा कहा जाता है कि इस महीने में भोलेनाथ माता और माता पार्वती दोनों ही शुभ आशीर्वाद प्रदान करते हैं. इसके अलावा भी शिव जी का पूरा परिवार, गण और अवतार इस मास में प्रसन्न मुद्रा में वरदान देते हैं यही वजह है कि सवान के महीने में आने वाले सोमवार को भगवान शिव की ख़ास तरीके से पूजा की जाती हैं.

ऐसा भी कहा जाता है कि अगर कोई लंबे समय से किसी बिमारी से परेशान है तो वह इस ख़ास मन्त्र का जाप सवान के महीने में करें वह जल्द ही बिमारी से छुटकारा पा लेगा.

‘महामृत्युंजय मंत्र’

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ

त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्

उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्

ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ

ये हैं राम की वनवास यात्रा के साक्ष्य बने स्थानों की कहानी
अगर आपको चाहिए मनचाहा फल तो सावन महीने के जरुर करे ये तीन व्रत

Check Also

रावण अपने अधूरे 7 काम करने से पहले ही मर गया, नहीं तो…

देवताओं को भी पराजित करने वाला रावण महापंडित और महाज्ञानी था। लेकिन रावण की सबसे …