रक्षाबंधन : जानिए राखी का शुभ और सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त

कल यानी 26 अगस्त को रक्षाबंधन का त्यौहार है जिसे हर हिन्दू धूम धाम से मनाता है. इस त्यौहार के लिए हर जगह शोर मचा हुआ है और इसकी तैयारी में जुटे हुए हैं. ये त्यौहार भाई और बहन के प्रेम का प्रतीक है और इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और उससे अपनी रक्षा का वचन मांगती है. रक्षा सूत्र का शास्त्रों में बहुत महत्व है जिसके चलते लोग उस त्यौहार का मनाते हैं इसे मनाने के पीछे कई पौराणिक कथाएं हैं जो रक्षाबंधन से जुड़ी हैं. इसके अलावा हम आपको बता देते हैं राखी बांधने का शुभ मुहूर्त जिसके लिए हर कोई इंतज़ार करता है.

तो आपको बता देते हैं, इस बार रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त 11 घंटे 26 मिनट का है. राखी के दिन आप सुबह 5:59 मिनट से शाम 17:12 मिनट तक राखी बांध सकते हैं. राखी के इस शुभ मुहूर्त पर ये भी कहा जा रहा है कि इस बार राखी पर भद्रा नहीं लग रहा है इसलिए सहम को 5 बजे तक राखी बाँधी जा सकती है. राखी बांधते समय आप इस मंत्र का जाप कर सकते हैं जो आपके भाई के लिए बहुत ही शुभ होगा. 

मंत्र

येन बद्धो बलि: राजा दानवेंद्रो महाबल:।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।

अर्थ

जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली राजा बलि को बांधा गया था, उसी सूत्र से मैं तुम्हें बांधता हूं। हे रक्षे (राखी), तुम अडिग रहना। अपने रक्षा के संकल्प से कभी भी विचलित मत होना।

अगर आप और  भी राखी बांधने का सर्वश्रेष्ठ मंगलमयी शुभ मुहूर्त देख रहे हैं तो 26 अगस्त को –

सुबह 7.43 से दोपहर 12.28 बजे तक बाँध सकते हैं.

दोपहर 2.03 से 3.38 बजे तक

शुभ मुहूर्त

प्रातः 7.43 से 9.18 तक चर

प्रातः 9.18 से 10.53 तक लाभ

प्रातः10.53 से 12.28 तक अमृत

दोपहर: 2.03 से 3.38 तक शुभ

सायं: 6.48 से 8.13 तक शुभ

रात्रि: 8.13 से 9.38 तक अमृत

रात्रि: 9.38 से 11.03 तक चर

शुरू हुआ ओणम का त्योहार, जानिए इसका पौराणिक महत्व
शनि के बुरे प्रकोप से बचने के लिए करें ये उपाय

Check Also

सूर्यास्त के बाद क्यों नहीं करते कंघी

घर में प्रायः बड़े बुजुर्गों द्वारा लड़कियों को सूर्यास्त के बाद कंघी नहीं करने की …