शुरू हुआ ओणम का त्योहार, जानिए इसका पौराणिक महत्व

श्रावण शुक्ल की त्रयोदशी तिथि को ओणम मनाया जाता है। ओणम दक्षिण भारत के राज्य केरल का एक मुख्य त्योहार है जिसे वहां इसे एक राष्ट्रीय पर्व का दर्जा प्राप्त है। यह उत्सव 10 दिनों तक चलता है। ओणम का त्योहार दशहरे की तरह होता है, इसमें केरल के लोग अपने घरों को 10 दिनों के लिए फूलों से सजाते हैं।

ओणम का महत्व
पौराणिक मान्यता के अनुसार राजा महाबली ने ओणम के दिन ही भगवान विष्णु से अपनी प्रजा से वर्ष में एक बार मिलने की अनुमति मांगी थी। राजा महाबली की विनती को स्वीकार करते हुए उन्हें साल में इस दिन अपनी प्रजा से मिलने की अनुमति प्रदान की थी। इस दिन केरल राज्य के लोग अपने राजा का स्वागत करने के लिए तैयारी करते है। ओणम के दौरान पूरे राज्य को फूलों से सजाते हैं महिलाएं अपने-अपने घरों में रंगोली बनाती है।केरल में यह त्योहार बिल्कुल दशहरे की तरह होता है। इस त्योहार में पूरे केरल कई तरह की प्रतियोगिताएं होती है जिनमें नौका प्रतियोगिता दुनियाभर में मशहूर है।

जानिए भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त और समय
रक्षाबंधन : जानिए राखी का शुभ और सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त

Check Also

चाणक्य नीति

मुझे वह दौलत नही चाहिए जिसके लिए कठोर यातना सहनी पड़े, सदाचार का त्याग करना …