मां संतोषी देती हैं समृद्धि का वरदान

शुक्रवार देवी शक्ति का वार, जी हां, देवी शक्ति। माना जाता है कि शुक्रवार के दिन देवियों की पूजा करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। यही नहीं कहा जाता है कि देवियों का पूजन करने से अद्भुत शक्ति मिलती है।  कहा जाता है कि शुक्रवार को देवी शक्ति श्रद्धालुओं की मनोकामना को पूरा करती हैं। इस दिन संतोषी माता का विशेष पूजन किया जाता है। यही नहीं मां की आराधना करने से महिलाओं के सौभाग्य में वृद्धि होती है तो दूसरी ओर कुंवारी कन्याओं को मनभावन पति मिलता है। यही नहीं संतोषी माता के व्रत और पूजन करने से श्रद्धालुओं को हर इच्छित कामना की पूर्ति होती है।

कहा जाता है कि संतोषी माता उनकी आराधना करने वाले का घर धन, धान्य से और सुखों से भर देती है। माता की आराधना करने के लिए सात शुक्रवार के व्रत भी विशेष फलदायी होते हैं। इस दौरान माता को कुमकुम, चुनरी और सौलह श्रृंगार की सामग्री प्रदान की जाती है। माता के सात व्रत पूर्ण होने पर उद्यापन किया जाता है। उद्यापन में खीर, पूड़ी, मीठा पकवान अपनी शक्ति, सामथ्र्य और श्रद्धा के अनुसार बनाकर सौभाग्यवती स्त्रियों को और गरीबों को खिलाया जाता है। माता को गुड़ और चने का भोग भी लगाया जाता है। इससे माता प्रसन्न होकर श्रद्धालुओं के सारे मनोरथ पूर्ण करती है। 

क्या सच में इससे सीखा श्रीराम ने न्याय करना...
...तो क्या इस वजह से माता कैकेई ने मांगा राम का वनवास

Check Also

आज है मार्गशीर्ष मास की संकष्टी चतुर्थी, पढ़े प्रामाणिक व्रत कथा

3 दिसंबर को गणेश चतुर्थी का व्रत है। इसे संकष्टी चतुर्थी भी कहते हैं। जानिए …