रामनवमी के दिन ऐसी करें भगवान राम की पूजा

चैत्र नवरात्रि पर्व के दौरान बुधवार को रामनवमी पर्व मनाया गया। इसी के साथ नवरात्रि पर्व का भी समापन हुआ। मंदिरों में रामनवमी के अवसर पर भगवान रामजी की विशेष पूजा-अर्चना की गई। सुबह से ही मंदिरों में एक बार फिर श्रद्धालुओं की भीड़ दर्शनों के लिए पहुंची। विभिन्न माता के मंदिरों व दरबारों में भी रामनवमी बड़े ही धूमधाम के साथ मनाई गई।

इस अवसर पर कई स्थानों पर अष्टमी की तरह आज भी हवन-पूजन कर आम भंडारे का आयोजन किया गया। नवरात्रि पर्व के दौरान अंतिम दिन रामनवमी मनाई जाती है। भगवान राम की पूजा-अर्चना के साथ ही मंदिरों में भगवान राम के जयकारे लगाए जाते है। प्रमुख रूप से निरंकारी मंडल मार्ग स्थित हनुमान मंदिर में रामनवमी पर भगवान राम-लक्ष्मण माता सीता का श्रृंगार कर पूजा-अर्चना के बाद प्रसाद वितरण किया गया। इसके अलावा मुख्य मार्ग स्थित शिव मंदिर में भी भगवान राम की पूजा-अर्चना हुई।

साथ ही अन्य मंदिरों में रामनवमी पर्व मनाया गया। वहीं दूसरी तरफ सीआरपी स्थित लच्छू माता दरबार में भी राम नवमी पर आम भंडारे का आयोजन किया गया। बड़ी संख्या में यहां श्रद्धालुओं ने पहुंचकर माताजी से आशीर्वाद लिया। माता के भक्तों ने उपवास भी छोड़े। शाम के बाद माता की ज्योत व ज्वारों का विसर्जन किया गया। ढोल-धमाकों के साथ माता की ज्योत विसर्जित की गई।

नवमी के दिन प्रभु श्रीराम धरती पर हुए थे अवतरित...
दुर्गा अष्टमी: दुर्गा पूजा में महत्वपूर्ण है देवी महागौरी का पूजन...

Check Also

जानिए क्यों युधिष्ठिर के दोनों हाथ जलाना चाहते थे भीम

महाभारत से जुडी ऐसी कई कहानियां है जो लोगों को नहीं पता है. महाभारत में …