विजयादशमी 2018: दशहरे पर इस विधि से करें शस्त्र पूजा, मिलेगी शत्रुओं पर विजय

असत्य पर सत्य की जीत का पर्व दशहरा 19 अक्टूबर 2018 को मनाया जाएगा। अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर मनाए जाने वाले इस पावन पर्व का धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है। इसी दिन प्रभु श्रीराम ने रावण का वध किया था। एक और मान्यता के अनुसार इसी दिन मां दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का वध भी किया था। विजय के प्रतीक दशहरा वाले दिन देश भर में अस्त्र-शस्त्र की पूजा का विधान है। मान्यता है कि इस दिन जो भी काम किया जाता है, उसका शुभ लाभ अवश्य प्राप्त होता है।

शस्त्र पूजन विधि
दशहरे के दिन शस्त्र पूजा के लिए सबसे पहले घर पर जितने भी शस्त्र हैं, उन पर पवित्र गंगाजल का छिड़काव करें। शस्त्रों को पवित्र करने के पश्चात् उन पर हल्दी या कुमकुम से टीका लगाएं और फल-फूल अर्पित करें। शस्त्र पूजा में शमी के पत्ते जरूर चढ़ाएं। दशहरे पर शमी के पेड़ की पूजा करने का विशेष महत्व होता है।

प्राचीनकाल से चली आ रही है परंपरा
सनातन परंपरा में शस्त्र और शास्त्र दोनों का बहुत महत्व है। शास्त्र की रक्षा और आत्मरक्षा के लिए धर्मसम्म्त तरीके से शस्त्र का प्रयोग होता रहा है। प्राचीनकाल में क्षत्रिय शत्रुओं पर विजय की कामना लिए इसी दिन का चुनाव युद्ध के लिए किया करते थे। पूर्व की भांति आज भी शस्त्र पूजन की परंपरा कायम है और देश की तमाम रियासतों और शासकीय शस्त्रागारों में आज भी शस्त्र पूजा बड़ी धूमधाम के साथ की जाती है।

स्वर्ग, मोक्ष एवं अपार धन की देती है पापांकुशा एकादशी, जानिए इसका महत्व और पूजा विधि
विजयादशमी 2018 : जानें राम की शक्ति पूजा का रहस्य

Check Also

इस दिन है हनुमान जयंती, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

भगवान हनुमान को संकट मोचक कहा गया है. हनुमान जी की महिमा अपार है. हनुमान …