जानिए, कैसे हुआ हनुमान जी का विवाह और बने एक पुत्र के पिता…

हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी माना जाता है। यह बात पूरी तरह सत्य है लेकिन ऐसा नहीं है कि हनुमान जी अविवाहित थे। हनुमान जी का पूरी रीति रिवाज और मंत्रों के साथ विवाह हुआ था और इनका एक पुत्र भी था, लेकिन विवाह और पुत्र प्राप्ति में कोई संबंध नहीं है इसलिए विवाहित और पिता बनने के बाद भी हनुमान जी ब्रह्मचारी ही माने जाते हैं।

ऐसी मान्यता है कि हनुमान जी जब अपने गुरु सूर्य देव से शिक्षा प्राप्त कर रहे थे। तब सारी शिक्षा लेने के बाद एक आखिरी शिक्षा बची हुई थी लेकिन यह शिक्षा अविवाहित व्यक्ति को नहीं दी जा सकती थी, सिर्फ विवाहित ही इस शिक्षा को प्राप्त कर सकते थे। ऐसे में आजीवन ब्रह्मचारी रहने का प्राण ले चुके हनुमान जी के लिए दुविधा की स्थिति उत्पन्न हो गई। शिष्य को दुविधा में देखकर सूर्य देव ने हनुमान जी से कहा कि तुम मेरी पुत्री सुवर्चला से विवाह कर लो। इसके बाद रीति रिवाज और वैदिक मंत्रों के साथ हनुमान जी का विवाह संपन्न हुआ।

पराशर संहिता के अनुसार हनुमान जी आजीवन ब्रह्मचारी रहने का प्रण ले चुके थे और दूसरी ओर उनकी पत्नी सुवर्चला तपस्विनी थी। ऐसे में हनुमान जी की पत्नी विवाह के बाद वापस तपस्या के लिए चली गई। हनुमान जी ने विवाह की शर्त पूरी कर ली लेकिन गृहस्थ जीवन में नहीं रहे और आगे की शिक्षा पूरी की।

कलयुग में भी मौजूद हैं भगवान राम, इस महल में देते हैं हर रात दर्शन
...तो इस कारण 14 वर्षों तक सोती रही लक्ष्मण जी की पत्नी उर्मिला

Check Also

जानिये क्या है वास्तुशास्त्र, कैसे होता है लाभ

वास्तुशास्त्र किसी भी निर्माण से सम्बंधित चीज़ों के शुभ अशुभ फलों को बताता है. इसके …