धनतेरस पर जरूर गाये यह आरती,

आप सभी जानते ही होंगे कि दिवाली 2018 मनाने से पहले देश भर में धनतेरस की त्यौहार की तैयारियां हो जाती हैं और यह त्यौहार बड़े ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है ऐसे में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाये जाने वाले ‘धनतेरस’ को ‘धनवंतरि त्रयोदशी’ भी कहा जाता है. आप सभी को बता दें कि इस बार धनतेरस 5 नवंबर 2018 को मनाया जाने वाला है और आप सभी जानते ही हैं कि धनतेरस पर लोग जमकर खरीददारी करते हैं. ऐसे में इस दिन वस्तुएं खरीदना शुभ माना जाता है. ऐसे में इस बार धनतेरस और भी शुभ होने वाला है क्योंकि इस बार धनतेरस पर्व अमृत और राजयोग मे आ रहा है.

आप सभी को बता दें कि इस बार धनतेरस की रात में धनवंतरि की आरती पढ़ने से आप जल्द ही मालामाल हो जाएंगे. जी हाँ, कहा जाता है कि धनतेरस की रात धनवंतरि की आरती पढ़ने से बहुत लाभ होता है. इसी के साथ आरती करने से दरिद्रता जीवनभर के लिए दूर हो जाएगी. ऐसे में आइए आज हम बताते हैं आपको धनवंतरि की आरती जिसे पढ़कर आप मालामाल हो सकते हैं. ऐसे में धनतेरस के दिन मृत्यु के देवता यमराज और भगवान धनवंतरि की पूजा का महत्व है और इस वजह से हम आपको भगवान धनवंतरि की आरती बताने जा रहे हैं जिसे धनतेरस पर पढ़ने से बहुत लाभ होता है.

भगवान धनवंतरि की आरती

जय धन्वंतरि देवा, जय धन्वंतरि जी देवा।

जरा-रोग से पीड़ित, जन-जन सुख देवा।।जय धन्वं.।।

तुम समुद्र से निकले, अमृत कलश लिए।

देवासुर के संकट आकर दूर किए।।जय धन्वं.।।

आयुर्वेद बनाया, जग में फैलाया।

सदा स्वस्थ रहने का, साधन बतलाया।।जय धन्वं.।।

भुजा चार अति सुंदर, शंख सुधा धारी।

आयुर्वेद वनस्पति से शोभा भारी।।जय धन्वं.।।

तुम को जो नित ध्यावे, रोग नहीं आवे।

असाध्य रोग भी उसका, निश्चय मिट जावे।।जय धन्वं.।।

हाथ जोड़कर प्रभुजी, दास खड़ा तेरा।

वैद्य-समाज तुम्हारे चरणों का घेरा।।जय धन्वं.।।

धन्वंतरिजी की आरती जो कोई नर गावे।

रोग-शोक न आए, सुख-समृद्धि पावे।।जय धन्वं.।।

धनतेरस पर माँ लक्ष्मी को धन्वन्तरि स्तोत्र से करें खुश
डाकू से ऐसे बने आदिकवि, नारद मुनि ने दिखाया था ज्ञान का रास्ता

Check Also

महालक्ष्मी प्रार्थना : शरद पूर्णिमा पर वैभव, सौभाग्य, आरोग्य, ऐश्वर्य और सफलता देगा स्तोत्र

समस्त ऐश्वर्यों की अधिष्ठात्री और अपार धन सम्पत्तियों को देने वाली महालक्ष्मी की आराधना हर …