मकर संक्राति पर स्नान, दान से होगी अक्षय फल की प्राप्ति

avatar

Web_Wing

मकर संक्रांति पर स्नान और दान का विशेष महत्व है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन दिया गया दान इस जन्म के साथ अगले जन्म में करोड़ो़ गुना होकर मिलता है। मान्यता है कि यहां जितने भी दान किए जाते हैं वे अक्षय फल देने वाले होते हैं। महाभारत के अनुसार ‘यह देवताओं की संस्कार की हुई भूमि है। यहां दिया हुआ थोड़ा सा भी दान महान होता है।’ 

तिल के तेल का दीपक जलाने से संक्रमण नाश

संक्रांति का अर्थ है संक्रमण। इसलिए सूर्य के इस संक्रमण से बचने और मन की शुद्धि के लिए श्रद्धालु संगम तट पर तिल के तेल का दीपक जलाते हैं। मकर संक्रांति पर द्वादस माधव के तीर्थ प्रयाग में भगवान वेणी माधव को प्रमुख तीर्थ के रूप में माना जाता है। इसलिए वेणीमाधव भगवान को दीप दान विशेष रूप से करते हैं। 

दान महात्म्य

मकर संक्रांति पर हवन, अभिषेक, यज्ञ, नदियों में स्नान दान का बहुत महतव है। इस अवसर पर खिचड़ी, तिल, गुड़, चावल, नीबू, मूली, उड़द दाल और द्रव्य का दान करना चाहिए। इस दिन सूर्य को आराध्य मानकर पितरों को भी तिल, दान करना पुण्यकारी होता है।

‘गांव की गठरी’ है पुरोहितों का एटीएम

तीर्थ पुरोहितों के शिविरों में आध्यात्मिकता पर आधुनिकता का काफी असर है। लैपटाप से लैस पंड़ो की नई पीढ़ीे.. श्रद्धालुओं को ‘फिक्स एफडी’ से कम नहीं मानती हैं। गांव से आकर श्रद्धालु जितना प्रयाग में अपने पुरोहित को दान देते हैं उससे ज्यादा ‘मौसमी उधार’ के कॉलम में नगद, अनाज, सोना-चांदी को दान के रूप में दर्ज भी करा लेते हैं।

चैत में जब नई फसल तैयार हो जाती है, तब पुरोहित उधार की डायरी के साथ गांव पहुंच जाते हैं। वहां यजमान के यहां महीनों रहकर प्रयागराज का बकाया उधारी कॉलम में दर्ज रकम के अनुसार एकत्र कर लेते हैं। साथ ही अपने यजमान को अगले साल माघ मेले मेंं आने का न्यौता भी दे देते हैं। 

प्रयागराज में मकर संक्रांति से शुरू हो रहा है अर्धकुंभ, जानें इससे जुड़ी कुछ बातें
मकर संक्रांति पर यह है स्नान-दान का शुभ मुहूर्त, जानें खिचड़ी खाने का महत्व

Check Also

नवरात्र की पांचवीं देवी स्कंद माता इस प्रसाद से होंगी प्रसन्न..जाने

शुभ रंग: श्वेत (सफ़ेद) माता का स्वरूप स्कंदमाता की दाहिनी भुजा में कमल पुष्प, बाई …