ऐसे पूजन करने पर मिलेगा मनचाहा फल

आप सभी को बता दें कि आज संकष्टी चतुर्थी है इस बार यह त्यौहार शुक्रवार यानी आज यानी 28 सितंबर 2018 को मनाई जा रही है और कहा जाता है कि यह दिन बहुत शुभ है. बहुत कम लोग यह बात जानते हैं कि यह दिन हर मनोकामना की पूर्ति के लिए सही होता है. आप सभी को बता दें कि शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी और कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाता है. इस बार 28 सितंबर 2018 को पड़ने वाली संकष्टी चतुर्थी इस साल की अंतिम संकष्टी चतुर्थी मानी जा रही है. तो आज आपको ऐसे करना है संकष्टी चतुर्थी का पूजन, आइए जाने पूजन विधि..

आपको पूजा के लिए सबसे पहले भगवान गणेश की प्रतिमा को ईशानकोण में चौकी पर स्थापित करना होगा और फिर सबसे पहले पूजा का संकल्प लेकर उन्हें जल, अक्षत, दूर्वा घास, लड्डू, पान, धूप आदि अर्पित करन होगा. उसके बाद एक थाली या केले का पत्ता लेकर उस पर आपको एक रोली से त्रिकोण बनाना होगा और फिर त्रिकोण के अग्र भाग पर एक घी का दीपक रखकर बीच में मसूर की दाल व सात लाल साबुत मिर्च को रखनी होगी. यह होने के बाद पूजन उपरांत चंद्रमा को शहद, चंदन, रोली मिश्रित दूध से अर्घ्य देकर पूजन के बाद लड्डू प्रसाद स्वरूप ग्रहण करना होगा.

आपको बता दें कि भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु गणेश जी पर बेल फल चढ़ाने होंगे और पारिवारिक विपदा से मुक्ति हेतु गणेश जी पर चढ़े गोलोचन से घर के मेन गेट पर तिलक करना होगा. वहीं रुके मांगलिक कार्य संपन्न करने हेतु शक्कर मिली दही में छाया देखकर गणपति पर चढ़ानी होगी.

इस आरती से करें लक्ष्मी माता को खुश फिर देखिये चमत्कार....
पांडवों के सगे मामा ने की थी दुर्योधन की ओर से लड़ाई और दिखाई थी अपनी यह चालाकी

Check Also

देवउठनी एकादशी 2020 : पूजा की 17 बातें बहुत जरूरी हैं आपके लिए

कार्तिक माह भगवान विष्णु का महीना माना गया है। इस महीने में खासतौर पर विष्णु पूजन …