चैत्र नवरात्रि विशेष : मां अंबे की पवित्र आरती, 9 दिन तक अवश्य करें, मिलेगा शुभ फल

दुर्गा आरती
जय अंबे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥
मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥
कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥
केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥
कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥
चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥
भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥
कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥
श्री अंबेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥
नवरात्रि में करें इन मन्त्रों का जाप, होगी हर मनोकामना की पूर्ति
नवरात्रि में प्रतिदिन अवश्‍य पढ़ें श्री दुर्गा चालीसा

Check Also

इस नवरात्रि उपवास में खाएं स्वादिष्ट आलू का हलवा

नवरात्रि के मौके पर उपवास के समय अगर कुछ ऐसा मिल जाए जिससे आपका व्रत …