गुरु प्रदोष व्रत करके कोई भी व्यक्ति अपने मन की इच्छा को बहुत जल्द पूरा कर सकता

प्रदोष व्रत भगवान शिव की विशेष कृपा पाने का दिन है, जो प्रदोष व्रत गुरुवार के दिन पड़ता है, उसे गुरु प्रदोष कहते हैं. गुरु प्रदोष व्रत करके कोई भी व्यक्ति अपने मन की इच्छा को बहुत जल्द पूरा कर सकता है. किसी भी प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है. मान्यता है कि घर के बड़े बुजुर्ग गुरु प्रदोष का व्रत करके अपने बच्चों को सफल और सुरक्षित बना सकते हैं.

आदिशंकराचार्य ने स्थापित किए थे 4 मठ
रिश्तों को मधुर बनाने के लिए किस ग्रह को रखना होगा खुश.

Check Also

जब हनुमान जी को मृत्यु दंड देने के लिए तैयार हो गए थे श्री राम, जानें कैसे बची थी जान

हिन्दू धर्म के महान ग्रंथ रामायण के कई ऐसे किस्से हैं जिनसे आप वाकिफ नहीं …