गुरु प्रदोष व्रत करके कोई भी व्यक्ति अपने मन की इच्छा को बहुत जल्द पूरा कर सकता

प्रदोष व्रत भगवान शिव की विशेष कृपा पाने का दिन है, जो प्रदोष व्रत गुरुवार के दिन पड़ता है, उसे गुरु प्रदोष कहते हैं. गुरु प्रदोष व्रत करके कोई भी व्यक्ति अपने मन की इच्छा को बहुत जल्द पूरा कर सकता है. किसी भी प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है. मान्यता है कि घर के बड़े बुजुर्ग गुरु प्रदोष का व्रत करके अपने बच्चों को सफल और सुरक्षित बना सकते हैं.

आदिशंकराचार्य ने स्थापित किए थे 4 मठ
रिश्तों को मधुर बनाने के लिए किस ग्रह को रखना होगा खुश.

Check Also

नवरात्रि माँ के 7वे स्वरूप यानि माँ कालरात्रि की पूजा में इन मंत्रो का करे जाप

नवरात्रि हिंदुओं का पावन त्यौहार माना जाता है और इस त्यौहार पर माँ के हर …