कौन हैं भगवान नृसिंह और क्या है इनकी महिमा

नृसिंह, विष्णु के पांचवे अवतार हैं. अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा के लिए भगवान विष्णु ने नृसिंह अवतार लिया था. इनका प्राकट्य खम्बे से गोधूली वेला के समय हुआ था. भगवान नृसिंह, श्रीहरि विष्णु के उग्र और शक्तिशाली अवतार माने जाते हैं. इनकी उपासना करने से हर प्रकार के संकट और दुर्घटना से रक्षा होती है. हर प्रकार से मुकदमे, शत्रु और विरोधी शांत होते हैं. इनकी उपासना करने से तंत्र – मंत्र की बाधाएं भी समाप्त होती हैं. इस वर्ष भगवान नृसिंह की जयंती 17 मई को मनाई जा रही है.

बृहस्पति का क्या महत्व, ये इसके शुभ और अशुभ प्रभाव
मां सिद्धिदात्री का महत्व और पूजन विधि

Check Also

शिवरात्रि में संपूर्ण रात्रि जागरण करने से महापुण्य फल की प्राप्ति होती: धर्म

शास्त्र कहते हैं कि संसार में अनेकानेक प्रकार के व्रत, विविध तीर्थस्नान नाना प्रकारेण दान …