जैन धर्म में संथारा को कहा जाता ‘फेस्टिवल ऑफ डेथ’

कंचन देवी बैद संथारा लेने की वजह से सुर्खियों में आ गई हैं. जैन धर्म की परंपराओं के अनुसार संथारा लेने वाला व्यक्ति मृत्यु आने तक भोजन या पानी का बहिष्कार कर देता है. जैन धर्म के लोग इस व्रत को फेस्टिवल ऑफ डेथ कहते हैं.

गुड़ी पड़वा: पौराणिक कथा और शुभ मुहूर्त
बुद्ध पूर्णिमा 18 मई 2019 को मनाई जा रही: जानें-पूजन विधि और महत्व

Check Also

महापर्व छठ का त्योहार: किन बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी

छठ साल में दो बार मनाया जाता है. पहली बार चैत्र महीने में और दूसरी …