गोपनीय रखें अपनी मनोकामना: गुप्त नवरात्र

चार नवरात्र होते हैं, जिनमें से दो गुप्त नवरात्र होते हैं. गुप्त नवरात्रि विशेष तौर पर गुप्त सिद्धियां पाने का समय होता है. आमतौर पर लोग दो नवरात्रों के बारे में जानते हैं- चैत्र या वासंतिक नवरात्र और आश्विन या शारदीय नवरात्र. इसके अलावा दो और नवरात्र भी हैं. जिनमें विशेष कामनाओं की सिद्धि की जाती है. कम लोगों को इसका ज्ञान होने के कारण या इसके छिपे हुए होने के कारण इसको गुप्त नवरात्र कहते हैं.

महापर्व छठ का त्योहार: किन बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी
इंदिरा एकादशी: हर तरह के कष्ट से मुक्ति

Check Also

विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की विधि विधान से करे पूजा अर्चना, कल है विनायक चतुर्थी

 फाल्गुन मास की विनायक चतुर्थी 27 फरवरी दिन गुरुवार को है। इस दिन विघ्नहर्ता श्री …