Navratri 2019 : नवरात्रि और दुर्गा पूजा का इतिहास और महत्व जानें क्या है

Navratri 2019 And Durga Puja History: नवदुर्गा, नवरात्रि या दुर्गा पूजा कहें, लेकिन इन नौ दिनों में जो चहल-पहल और रौनक देश भर में दिखाई देती है वह माहौल और मन को सुकून देती है। इन सबमें सबसे ज्यादा आकर्षक और खूबसूरत परंपरा जहां नज़र आती है वह है पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा। हर तरफ दिखते हैं भव्य पंडाल, पूजा की पवित्रता, रंगों की छटा, तेजस्वी चेहरों वाली देवियां, सिंदूर खेला, धुनुची नृत्य और भी बहुत कुछ ऐसा दिव्य और अलौकिक जो शब्दों में बयां करना मुश्किल है।

इस दौरान श्रद्धालु देवी के नौ रूपों की आराधना कर उनसे आशीर्वाद मांगते हैं। मान्‍यता है कि इन नौ दिनों में जो भी सच्‍चे मन से मां दुर्गा की पूजा करता है उसकी सभी इच्‍छाएं पूर्ण होती हैं। यह त्योहार बताता है कि झूठ कितना भी बड़ा और पाप कितना भी ताकतवर क्‍यों न हो आखिर में जीत सच्‍चाई और धर्म की ही होती है।

कब से है नवरात्रि

शारदीय नवरात्रि को मुख्‍य नवरात्रि माना जाता है। हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार यह नवरात्रि शरद ऋतु में अश्विन शुक्‍ल पक्ष से शुरू होती हैं और पूरे नौ दिनों तक चलती हैं। यह त्‍योहार हर साल सितंबर-अक्‍टूबर के महीने में आता है। इस बार नवरात्रि 29 सितंबर से शुरू होकर 07 अक्‍टूबर तक है। 08 अक्‍टूबर को विजयदशमी यानी दशहरा मनाया जाएगा।

क्या है नवरात्रि का महत्‍व

हिन्‍दू धर्म में नवरात्रि का खास महत्‍व होता है। हर साल दो बार नवरात्र‍ि का त्योहार मनाया जाता है। जिन्‍हें चैत्र नवरात्र और शारदीय नवरात्र के नाम से जाना जाता है।चैत्र नवरात्र से हिन्‍दू वर्ष की शुरुआत होती है और शारदीय नवरात्र अधर्म पर धर्म और असत्‍य पर सत्‍य की जीत का प्रतीक मानी जाती है। नवरात्रि और दुर्गा पूजा मनाए जाने की अलग-अलग वजहें हैं। मान्‍यता है कि देवी दुर्गा ने महिशासुर नाम के राक्षस का वध किया था। बुराई पर अच्‍छाई के प्रतीक के रूप में नवरात्र में नवदुर्गा की पूजा की जाती है। वहीं, कुछ लोगों का मानना है कि साल के इन्‍हीं नौ दिनों में देवी मां अपने मायके आती हैं। ऐसे में इन नौ दिनों को दुर्गा उत्‍सव के रूप में मनाया जाता है।

कैसे मनाया जाता है ये त्‍योहार

नवरात्रि का त्‍योहार पूरे भारत में नौ दिन तक मनाया जाता है। उत्तर भारत में नौ दिनों तक देवी मां के अलग-अलग स्‍वरूपों की पूजा की जाती है। श्रद्धालु पूरे 9 दिनों तक व्रत रखते हैं। पहले दिन कलश स्‍थापना की जाती है और फिर अष्‍टमी या नवमी के दिन कुंवारी कन्‍याओं को भोजन कराया जाता है। वहीं, पश्चिम बंगाल में नवरात्रि के आखिरी चार दिनों यानी कि षष्‍ठी से लेकर नवमी तक दुर्गा उत्‍सव मनाया जाता है। नवरात्रि में गुजरात और महाराष्‍ट्र में डांडिया और गरबा किया जाता है

लड़की हो या लड़का भूल से भी रात को नही करना चाहिए ये पांच काम
कलावा धारण करना होता है शुभ, नवरात्र में बांधते समय इन बातों का रखे विशेष ध्यान

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …