हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आज है सावन मास की मासिक कार्तिगाई….

हिन्दू कैलेंडर के अनुाार, आज श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की दसमी तिथि है। आज सावन मास की मासिक कार्तिगाई है। यह मुख्य रुप से भगवान शिव के लिए समर्पित है। आज के दिन संध्या के समय भगवान शिव के लिए तेल के दीपक जलाए जाते हैं। यह मुख्य रुप से तमिल हिन्दू इसे मनाते हैं। हालंकि सावन मास भगवान शिव की पूजा के लिए विशेष है, इसलिए आप भी आज शाम भगवान शिव के तेल का दीपक प्रज्जवलित कर सकते हैं।

मासिक कार्तिगाई का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार, आज की तिथि को ही देवों के देव महादेव ने भगवान विष्णु और ब्रह्म देव को अपनी श्रेष्ठता बताने के लिए स्वयं को प्रकाश के अनंत दिव्य ज्योति में परिवर्तित कर लिया था।

इस दिन मनाई जाती है कार्तिगाई

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, जिस दिन कृत्तिका नक्षत्र प्रबल होती है, उस दिन ही मासिक कार्तिगाई मनाई जाती है। कार्तिगाई का नाम कृत्तिका नक्षत्र के नाम पर ही पड़ा है। अब अगली मासिक कार्तिगाई 12 अगस्त 2020, दिन बुधवार को मनाई जाएगी।

क्या करें आज

आज आप संध्या के समय में भगवान शिव को स्मरण कर उनके सम्मान में तेल के दीपक जलाएं। ध्यान रखने वाली बात यह है कि दीपक एक पंक्ति में लगे होने चाहिए।

क्यों विशेष होते हैं सावन के दिन

श्रावण मास में भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। यह उनका प्रिय मास है। इस मास में आने वाले वे सभी व्रत, दिन एवं त्योहार जो भगवान शिव या उनके परिवार से जुड़े होते हैं, उनका महत्व बढ़ जाता है। कहा जाता है इस माह में भगवान शिव जल अर्पित कर देने मात्र से ही प्रसन्न हो जाते हैं। ऐसे में आप भगवान शिव की विधि पूर्वक पूजा अर्चना, शिव चालीसा, आरती और मंत्रों का उपयोग कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस माह में शिव पुराण का पाठ तथा भगवान शिव का अभिषेक कराया जाता है।

आज सूर्य देव मिथुन राशि से कर्क राशि में करेंगे प्रवेश, जानें आज से क्या होंगे बदलाव
जाने कैसे कई गुना बढ़ जाता है सावन में पड़ने वाले प्रदोष व्रत का महत्व, ऐसे करें शिव की आराधना

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …