पहली बार रामलला का दर्शन करने अयोध्या आ रहे PM मोदी, हनुमान गढ़ी में होगा भव्य स्वागत

प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद पहली बार रामलला का दर्शन करने अयोध्या आ रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दौरान रामनगरी में भव्य श्रीराम के मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इसके बाद उनका यहां पर देश को संबोधन का कार्यक्रम भी है। दोपहर 12:00 से 12:30 बजे के बीच वह भूमि पूजन करेंगे और इसके बाद करीब एक घंटा देश को संबोधित करेंगे। दूरदर्शन से भूमि पूजन के साथ पीएम मोदी के हर कार्यक्रम के सीधा प्रसारण की व्यवस्था की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच अगस्त यानी कल श्रीराम जन्मभूमि परिसर में भूमि पूजन के ठीक बाद अयोध्या की धरती से देश को संबोधित करेंगे। यहां पर प्रधानमंत्री से पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का भी संबोधन होगा। प्रधानमंत्री के तय कार्यक्रम के मुताबिक वह अयोध्या में पांच अगस्त को सिर्फ और सिर्फ राम मंदिर से जुड़े हर कार्यक्रम में ही शिरकत करेंगे। वह रामनगरी अयोध्या में पांच अगस्त को करीब तीन घंटे का समय गुजारेंगे। देश के प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद उनका यह पहला अयोध्या का दौरा है।

हनुमान गढ़ी से मिलेंगे विशिष्ट तोहफे

अयोध्या में पीएम नरेंद्र मोदी सबसे पहले हनुमान गढ़ी पहुंचेंगे। यहां पर करीब दस मिनट तक हनुमानजी का दर्शन करेंगे। इस दौरान हनुमान गढ़ी में पीएम मोदी का स्वागत साफा, मुकुट और गदा से होगा। हनुमान गढ़ी के मुख्य गद्दीनशीं महंत प्रेमदासजी महाराज ने कहा कि देश के इतिहास में संभवत: मोदी जी पहले प्रधानमंत्री हैं, जिनको हनुमानजी ने गढ़ी में बुलाया गया है। अब से पहले कोई प्रधानमंत्री मेरी जानकारी में नहीं हैं, जो यहां आए रहे हों।

महंत प्रेमदासजी महाराज ने कहा कि अयोध्या की धरती पर उतरते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरयू दर्शन, पूजन, आचमन करेंगे। इसके बाद फिर वह हनुमान गढ़ी आएंगे और यहां हनुमानजी के दरबार में दर्शन पूजन परिक्रमा करेंगे। यहां पीएम मोदी को आशीर्वाद और मान स्वरूप साफा बांधा जाएगा। पीएम नरेंद्र मोदी के साफे के उपर रजत मुकुट बांधा जाएगा और हनुमानजी के आशीष आयुध के रूप में रजत गदा प्रदान की जाएगी। इसके बाद प्रधानमंत्री जन्मभूमि परिसर में हो रहे मुख्य समारोह में हिस्सा लेने के लिए जाएंगे।

आज द्रोणनगरी में भी सुनाई देगी अयोध्या में लगने वाले श्रीराम के जयकारों की गूंज.....
आइये जाने आखिर क्यों श्री कृष्ण को राधा ने पिलाया था अपने पैरों का चरणामृत

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …