माँ भवानी की नियम संयम के साथ करे पाठ, जीवन मे सुख शांति की होगी वर्षा

नवरात्रि के ये नौ दिन हिन्दू सभ्यता में बड़े ही महत्वपूर्ण माने जाते है, इन नौ दिनों मे लोग व्रत व बड़े धूमधाम से माँ की आराधना करते है, और माँ के लिए अखंड ज्योति जलाते है लोग माँ की प्रतिमा विराजित कर सारे नियम संयम के साथ माँ दुर्गा का पाठ करते है। जिससे उनके जीवन मे सुख शांति व संव्रधी आती है और उनका जीवन हमेशा सुखमय व्यतीत होता है ।

शास्त्रो में माँ की भक्ति के विभिन्न अध्याय का वर्णन किया गया है। आज हम आपको माँ अम्बे के विभिन्न अध्यायों से अवगत कराते है जिसके करने से माँ की कृपा हमेशा अपने भक्तो पर बनी रहती है।

प्रथम अध्याय: – इसके पाठ से सभी प्रकार की चिंता दूर होती है एवं शक्तिशाली से शक्तिशाली शत्रु का भी भय दूर होता है शत्रुओं का नाश होता है ।

द्वितीय अध्याय:- इसके पाठ से बलवान शत्रु द्वारा घर एवं भूमि पर अधिकार करने एवं किसी भी प्रकार के वाद विवाद आदि में विजय प्राप्त होती है ।

तृतीय अध्याय: – तृतीय अध्याय के पाठ से युद्ध एवं मुक़दमे में विजय, शत्रुओं से छुटकारा मिलता है ।

चतुर्थ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से धन, सुन्दर जीवन साथी एवं माँ की भक्ति की प्राप्ति होती है ।

पंचम अध्याय: – पंचम अध्याय के पाठ से भक्ति मिलती है, भय, बुरे स्वप्नों और भूत प्रेत बाधाओं का निराकरण होता है।

छठा अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से समस्त बाधाएं दूर होती है और समस्त मनवाँछित फलो की प्राप्ति होती है ।

सातवाँ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से ह्रदय की समस्त कामना अथवा किसी विशेष गुप्त कामना की पूर्ति होती है ।

आठवाँ अध्याय: – अष्टम अध्याय के पाठ से धन लाभ के साथ वशीकरण प्रबल होता है ।

नौवां अध्याय:- नवम अध्याय के पाठ से खोये हुए की तलाश में सफलता मिलती है, संपत्ति एवं धन का लाभ भी प्राप्त होता है।

दसवाँ अधयाय:- इस अध्याय के पाठ से गुमशुदा की तलाश होती है, शक्ति और संतान का सुख भी प्राप्त होता है ।

ग्यारहवाँ अध्याय:- ग्यारहवें अध्याय के पाठ से किसी भी प्रकार की चिंता, व्यापार में सफलता एवं सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है ।

बारहवाँ अध्याय:- इस अध्याय के पाठ से रोगो से छुटकारा, निर्भयता की प्राप्ति होती है एवं समाज में मान-सम्मान मिलता है।

तेरहवां अध्याय:- तेरहवें अध्याय के पाठ से माता की भक्ति एवं सभी इच्छित वस्तुओं की प्राप्ति होती है ।

नवरात्रि में अखंड ज्योति प्रज्वलित करने के जानिए क्या है नियम
नवरात्रि के दौरान करें ये छह कार्य, सभी कष्ट होंगे दूर

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …