दिवाली पर शनि-गुरु करेंगे धनवर्षा, 499 साल बाद बन रहा है ये दुर्लभ संयोग

कल यानि शनिवार, 14 नवंबर को दीपावली मनाई जाएगी। इस साल ये त्योहार शनिवार को आने से तंत्र पूजा के लिए खास रहेगा। इस दीपावली पर गुरु ग्रह स्वराशि धनु में और शनि अपनी राशि मकर में रहेंगे। वहीं शुक्र ग्रह कन्या राशि में नीच का रहेगा। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के मुताबिक, दीपावली पर इन तीन बड़े ग्रहों का ये दुर्लभ योग 499 वर्ष बाद बन रहा है।

2020 से पहले वर्ष 1521 में गुरु, शुक्र और शनि का ऐसा योग बना था। उस साल 9 नवंबर को दीपावली मनाई गई थी। गुरु और शनि इंसान की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने वाले कारक ग्रह माने जाते हैं। ये दो ग्रह दीपावली पर अपनी राशि में होने से धन संबंधी कार्यों में कोई बड़ी उपलब्धि मिलने का वक़्त रहेगा। 14 नवंबर को चतुर्दशी तिथि दोपहर 1.16 बजे तक रहेगी। उसके बाद से अमावस्या तिथि आरम्भ हो जाएगी। दीपावली पर लक्ष्मी पूजा विशेष तौर पर संध्या काल और रात में ही की जाती है। 15 नवंबर को अमावस्या तिथि सुबह 10.16 तक ही रहेगी। इसीलिए दीपावली 14 नवंबर को मनाया जाना श्रेष्ठ माना जा रहा है। 15 तारीख को सिर्फ स्नान-दान की अमावस्या मनाई जाएगी।

दीपावली पर देवी लक्ष्मी के साथ ही श्रीयंत्र की भी पूजा करने की प्रथा है। इस बार गुरु धनु राशि में रहेगा। ऐसी स्थिति में श्रीयंत्र का पूरी रात कच्चे दूध से अभिषेक करना काफी शुभ रहेगा। शनि अपनी राशि मकर में रहेगा, शनिवार और अमावस्या का योग भी रहेगा। इस योग में दीपावली पर तंत्र-यंत्र पूजा करने से शुभफल प्राप्त होता है।

धनतेरस के दिन कुबेर कुंजी की जरुर करे स्थापना, जानिए स्थापना के नियम
आज है धनतेरस का त्यौहार, जानिए पंचांग, शुभ और अशुभ मुर्हुत

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …