शुक्रवार को मां लक्ष्मी को चढ़ाएं ये प्रसाद, नहीं होगी धन की कमी

शुक्रवार की शाम को देवी लक्ष्मी की उपासना की जाती है। ऐसी मान्यता है कि शुक्रवार को विधिवत आराधना से देवी लक्ष्मी खुश होती हैं तथा भक्तों पर धन वर्षा करती हैं। घर में सुख-शांति तथा समृद्धि बनाए रखने के लिए व्यक्ति शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की उपासना करते हैं। कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी कभी नहीं होती है। धर्मग्रंथों में धन समृद्धि की माँ लक्ष्मी को बताया गया है।

इन्हें प्रभु विष्णु की पत्नी तथा आदिशक्ति भी कहा जाता है। धन की देवी मां लक्ष्मी को खुश करने के लिए व्यक्ति कई प्रकार के उपाय करते हैं। हर शख्स अपनी क्षमता के मुताबिक, देवी लक्ष्मी को प्रसाद चढ़ाता है। आइए आपको बताते हैं ऐसे 5 प्रसाद के बारे में जिनके बिना शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की उपासना अधूरी मानी जाती है।

1. मां लक्ष्मी का प्रिय फल होने की वजह से ही नारियल को श्रीफल कहा जाता है। लक्ष्मी जी को नारियल का लड्डू, कच्चा नारियल तथा जल से भरा नारियल अर्पित करने से मां खुश होती हैं।
2. बताशे का संबंध चंद्रमा से होता है तथा चंद्रमा को माँ लक्ष्मी का भाई माना जाता है। यही कारण है कि बताशे मां लक्ष्मी को प्रिय हैं। शुक्रवार को मां लक्ष्मी को बताशे का भोग लगाया जाता है।
3. सिंघाड़ा भी देवी लक्ष्मी के पसंदीदा फलों में से एक है। पानी में उत्पन्न होने वाला यह फल माता रानी को बेहद प्रिय है। यह एक मौसमी फल है।
4. धन की देवी कही जाने वाली माँ लक्ष्मी को पान बेहद पसंद है। इसलिए पूजा के पश्चात् देवी को पान का भोग अवश्य लगाना चाहिए।
5. देवी लक्ष्मी को पानी में उगने वाला फल मतलब कि मखाना बेहद प्रिय है। इसकी वजह यह है कि यह जल में एक कठोर आवरण में बढ़ता है तथा इसलिए यह हर प्रकार से शुद्ध और पवित्र होता है। लक्ष्मी जी को मखाना चढ़ाने से वह ज्यादा खुश होती हैं तथा अपने श्रद्धालु की हर इच्छा पूरी करती हैं।
6. इसके अतिरिक्त आप अपनी श्रद्धानुसार लक्ष्मी जी को फल, मिठाई, सूखे मेवे का भी भोग लगा सकते हैं। यह प्रसाद आप माता को अर्पित करके जिंदगी में हर प्रकार की खुशियां पा सकते हैं।

आज नवमी की तिथि है, जानें पंचांग, शुभ मुहूर्त और राहु काल
इन 6 कार्यों को करते समय दिशाओं का रखें ध्यान, जल्द मिलेगी सफलता

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …