साल में दो नहीं चार होती है नवरात्रि, जानें गुप्त नवरात्रि का महत्व

नवरात्रि का त्यौहार दो बार नहीं बल्कि वर्ष में चार बार आता है। नवरात्रि में मां दुर्गा के अलग-अलग 9 स्वरूपों की उपासना की जाती है। मान्यता है कि सच्चे मन तथा पूरे विधि पूर्वक जो शख्स मां की उपासना करता है, मां दुर्गा उसकी सभी इच्छाओं को पूरा करती हैं।
गुप्त नवरात्रि का महत्व: गुप्त नवरात्रि की खास अहमियत बताई गई है। मान्यता है कि गुप्त नवरात्रि तंत्र-मंत्र को सिद्ध करने वाली मानी गई है। वहीं इस नवरात्रि में की जाने वाली खास पूजा कई तरह की समस्याओं को दूर करने वाली मानी गई है। ऐसा भी कहा जाता कि गुप्त नवरात्रि में तांत्रिक महाविद्याओं को भी सिद्ध करने के लिए मां दुर्गा की पुर्जा की जाती है। इस नवरात्रि पर पूजा तथा उपवास रखने वाले अपनी गुप्त को रखते हैं। इसके पीछे धारणा है कि पूजा गुप्त रखने से उसके लाभ तथा असर में वृद्धि होती है। गुप्त नवरात्रि में मां कालिके, तारा देवी, त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, माता चित्रमस्ता, त्रिपुर भैरवी, मां धूम्रवती, माता बगलामुखी, मातंगी, कमला देवी की आराधना का विधान है। गुप्त नवरात्रि:घट स्थापना मुहूर्त: 12 फरवरी से गुप्त नवरात्रि आरम्भ हो रही है। इस दिन घट मतलब कलश स्थापना का वक़्त पंचांग के मुताबिक सुबह 08 बजकर 34 मिनट से 09 बजकर 59 मिनट तक बना हुआ है। इस के चलते कलश की स्थापना कर सकते हैं। इस दिन दोपहर 12 बजकर 13 मिनट से 12 बजकर 58 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त है। गुप्त नवरात्रि का समापन 21 फरवरी, रविवार के दिन होगा।
पाना चाहते है शनिदेव के प्रकोपों से मुक्ति, तो शनिवार को इन पांच चीजों का जरूर करें सेवन
चाणक्य नीति: बच्चों के मामलों में माता-पिता को ध्यान में रखनी चाहिए ये जरूर बातें

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …