आइये जानें बसंत पंचमी को क्यों करते हैं सरस्वती पूजा

देशभर में इस साल 16 फरवरी को वसंत पंचमी मनाई जाएगी. इस दिन हम मां सरस्वती की पूजा करते हैं. मां सरस्वती को ज्ञान की देवी के रूप में पूजा जाता है. मान्यता है कि मां सरस्वती की पूजा करने से ज्ञान का विस्तार होता है. साथ ही साथ उनका आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. मान्यता है कि माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मां सरस्वती ब्रह्माजी के मुख से प्रकट हुईं थी और इसीलिए इस तिथि को वसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है. ज्ञान की देवी होने और इस तिथि को प्रकट होने की वजह से मां सरस्वती की पूजा की जाती है.

इस दिन के लिए पीले रंग का विशेष महत्व माना गया है. वसंत पंचमी के दिन पीले फूल, पीले मिष्ठान अर्पित करना शुभ माना जाता है. माना जाता है कि भगवान विष्णु को पीला रंग बहुत प्रिय है. इस दिन पीले वस्त्र पहनने और भेंट करने चाहिए. इस दिन लोग सुबह उठाकर स्नान करते हैं. इसके बाद शिक्षा से जुड़ी चीजों की पूजा करते हैं. इस दिन जगह-जगह सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है. साथ ही साथ मां सरस्वती की आरती की जाती है.

वसंत पंचमी शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार वसंत पंचमी शुभ मुहूर्त निकाला जाता है. इस बार 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि आरंभ होगी और इसका समापन 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर होगा.

वसंत पंचमी के दिन लगाएं भोग

इस दिन के लिए पीले रंग का विशेष महत्व माना गया है. वसंत पंचमी के दिन पीले फूल, पीले मिष्ठान अर्पित करना शुभ माना जाता है. माना जाता है कि भगवान विष्णु को पीला रंग बहुत प्रिय है. इस दिन पीले वस्त्र पहनने और भेंट करने चाहिए.

क्या है आज का पंचांग, यहाँ जानिए शुभ मुहूर्त और राहुकाल
क्या आप जानते हैं विष्णु लक्ष्मी विवाह की कथा, जानिए...

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …