जानें क्या है आज का पंचांग, शुभ-अशुभ मुहूर्त

आज के समय में पंचांग देखना शुभ होता है क्योंकि इससे शुभ-अशुभ मुहूर्त के साथ ही तिथि के बारे में ज्ञान मिलता है। तो आज हम लेकर आए हैं आज का यानी 2 मार्च का पंचांग।

 2 मार्च का पंचांग-

फाल्गुन कृष्ण चतुर्थी मंगलवार।

विक्रम संवत 2077।

अंग्रेजी तारीख 02 मार्च सन् 2021 ई॰।

सूर्यउत्तरायण, दक्षिणगोल, बसन्त ऋतु।

राहुकाल:- अपराह्न 03 बजे से 04 बजकर 30 मिनट तक।

चतुर्थी तिथि:- अर्धरात्रोत्तर 03 बजे तक उपरांत पंचमी तिथि का आरंभ।

चित्रा नक्षत्र अर्धरात्रोत्तर:- 03 बजकर 29 मिनट तक उपरांत स्वाती नक्षत्र का आरंभ।

गण्ड योग प्रातः 09 बजकर 25 मिनट तक उपरांत वृद्धि योग का आरंभ।

बव करण:- सायं 04 बजकर 24 मिनट तक उपरांत कौलव करण का आरंभ।

चन्द्रमा सायं 04 बजकर 30 मिनट तक कन्या उपरांत तुला राशि पर संचार करेगा।

आज के व्रत त्योहार: अंगारकी श्रीगणेश चतुर्थी व्रत

सूर्योदय का समय : सुबह 06 बजकर 45 मिनट पर।

सूर्यास्त का समय : शाम 06 बजकर 22 मिनट पर।

आज का शुभ मुहूर्त:

अभिजीत मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 10 म‍िनट से 12 बजकर 57 म‍िनट तक। विजय मुहूर्त दोपहर 02 बजकर 29 मिनट से 03 बजकर 16 मिनट तक रहेगा। निशीथ काल मध्यरात्रि 12 बजकर 08 मिनट से 12 बजकर 58 म‍िनट तक। अमृत काल रात को 9 बजकर 38 मिनट से 11 बजकर 6 मिनट तक। गोधूलि बेला शाम को 6 बजकर 10 मिनट से 6 बजकर 34 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः

राहुकाल दोपहर 3 बजे से 4 बजकर 30 म‍िनट तक। दोपहर 12 बजे से 01 बजकर 30 म‍िनट तक गुल‍िक काल। यमगंड सुबह 9 बजे से 10 बजकर 30 म‍िनट तक। दुर्मुहूर्त काल सुबह 9 बजकर 4 मिनट से 9 बजकर 51 मिनट तक और उसके बाद 11 बजकर 19 मिनट से 12 बजकर 8 मिनट तक।

आज है अंगारकी चतुर्थी, इस तरह करें पूजन
तिलक लगाना होता है बहुत शुभ, जानिए होते है क्या लाभ

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …