जानिए क्या है आज का पंचांग, शुभ-मुहूर्त

आज के समय में लोग पंचांग देखकर दिन की शुरुआत करते हैं। ऐसे में आज हम लेकर आए हैं आज का यानी 4 मार्च का पंचांग।

4 मार्च का पंचांग-
विक्रम संवत – 2077, प्रमादि
शक सम्वत – 1942, शर्वरी
पूर्णिमांत – फाल्गुन
अमांत – माघ
वार – गुरुवार

चन्द्र मास
अमांत – माघ
पूर्णिमांत – फाल्गुन
शक संवत (राष्ट्रीय कलैण्डर) – फाल्गुन 13, 1942
वैदिक ऋतु – शिशिर
द्रिक ऋतु – वसंत

तिथि –
कृष्ण पक्ष षष्ठी – Mar 04 12:22 AM – Mar 04 09:59 PM
कृष्ण पक्ष सप्तमी – Mar 04 09:59 PM – Mar 05 07:54 PM

नक्षत्र
विशाखा – Mar 04 01:36 AM – Mar 04 11:57 PM
अनुराधा – Mar 04 11:57 PM – Mar 05 10:37 PM

 करण
गर – Mar 04 12:22 AM – Mar 04 11:08 AM
वणिज – Mar 04 11:08 AM – Mar 04 09:59 PM
विष्टि – Mar 04 09:59 PM – Mar 05 08:54 AM

योग
व्याघात – Mar 04 02:40 AM – Mar 04 11:34 PM
हर्षण – Mar 04 11:34 PM – Mar 05 08:43 PM

सूर्य का समय
सूर्योदय – 6:49 AM
सूर्यास्त – 6:27 PM

चंद्रमा का समय
चन्द्रोदय – Mar 04 11:50 PM
चन्द्रास्त – Mar 05 11:06 AM

शुभ काल
अभिजीत मुहूर्त – 12:15 PM – 01:01 PM
अमृत काल – 03:45 PM – 05:14 PM
ब्रह्म मुहूर्त – 05:13 AM – 06:01 AM

अशुभ काल
राहू – 2:06 PM – 3:33 PM
यम गण्ड – 6:49 AM – 8:16 AM
कुलिक – 9:44 AM – 11:11 AM
दुर्मुहूर्त – 10:42 AM – 11:28 AM, 03:21 PM – 04:07 PM
वर्ज्यम् – 03:44 AM – 05:15 AM

आनन्दादि योग
वर्धमान– 11:57 PM
आनन्द

सर्वार्थसिद्धि योग – 04 11:57 PM – 05 मार्च 06:48 AM

4 मार्च 2021 का चौघड़िया

दिन के समय- 
शुभ (वार वेला) 06:49 AM से 08:16 AM तक
रोग 08:16 AM से 09:44 AM तक
उद्बेग 09:44 AM से 11:11 AM तक
चर 11:11 AM से 12:38 PM तक
लाभ 12:38 PM से 14:05 PM तक
अमृत 14:05 PM से 15:33 PM तक
काल (काल वेला) 15:33 PM से 17:00 PM तक
शुभ (वार वेला) 17:00 PM से 18:27 PM तक

रात के समय-
अमृत –  18:27 PM से 20:00 PM तक
चर –  20:00 PM से 21:32 PM तक
रोग –  21:32 PM से 23:05 PM तक
काल –  23:05 PM से 00:38 AM तक
लाभ (काल रात्रि) –  00:38 AM से 02:10 AM तक
उद्बेग –  02:10 AM से 03:43 AM तक
शुभ –  03:43 AM से 05:16 AM तक
अमृत –  05:16 AM से 06:48 AM तक

चाणक्य नीति: संतान को योग्य बनाने के लिए जरुर जान लें चाणक्य की इन पांच बातों के बारे में....
इस महीने दो बड़े ग्रह करने जा रहे हैं राशि परिवर्तन, इस राशि के लोगों को रहना होगा सावधान

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …