घर के इस स्थान पर भूलकर भी ना रखें तुलसी का पौधा, हो सकती धन और बुद्धि की हानि

हिंदू धर्म ग्रन्थों में तुलसी के पौधे को कृष्ण का स्वरूप माना गया है. तुलसी बुध का प्रतिनिधित्व करती है. कई घरों में इसकी पूजा भी की जाती है. तुलसी का पौधा तमाम दोषों को दूर करता है. कल्याणकारी जीवन भी प्रदान करता है. तुलसी का पौधा देवी-देवताओं की कृपा दिलाने में सहायक होता है. लेकिन तुलसी के पौधे को यदि सही जगह पर न रखा जाये तो ये अशुभ फल भी देती है. आइये जानें तुलसी का पौधा कहां नहीं रखना चाहिए.

  • कुछ लोंगों के घरों में जगह कम होने से लोग तुलसी के पौधे को घर की छत पर रख देते हैं. वास्तुशास्त्र के अनुसार, तुलसी के पौधे को छत पर रखने से अशुभ फल मिलते हैं.
  • जिनकी कुंडली में बुध, धन से संबंध रखते हैं, यदि वे लोग तुलसी को छत पर रखते तो उन्हें आर्थिक हानि होनी शुरू हो जाती है.
  • माना जाता है कि जिन लोगों के घर के छत पर तुलसी का पौधा होता है, उस घर में चिड़िया या कबूतर घोसला बना लेते हैं. यह बुरे केतु की निशानी है.
  • तुलसी का पौधा पूरब दिशा में भी नहीं रखना चाहिए. इससे व्यापार में हानि होती है जिसका असर परीवार पर नकारात्मक पड़ता है.
  • यदि आपने तुलसी के पौधे को छत पर रखे हैं तो घर के उत्तर दिशा में चीटियां निकलनी शुरू हो जायेंगी. तथा उत्तर की दिशा में कहीं न कहीं दरारे पड़नी शुरू हो जायेगी.

करें ये काम तो होगा लाभ

  1. तुलसी के पौधे को हमेशा उत्तर दिशा से ईशान कोण तक रख सकते है. इसके अलावा इसे पश्चिम दिशा में भी रख सकते हैं. इससे घर परिवार में सकारात्मक उर्जा का प्रसार होता है.
  2. तुलसी के पत्ते को कभी भी चबाकर न खाएं बल्कि जीभ पर रखकर इसे चूसें. इसके अलावा इसे दही में मिलाकर खाने से स्वास्थ्य संबंधी अनेक विकार दूर होते हैं. तथा दिन भर ऊर्जा बनी रहती है.
  3. तुलसी के पौधे की रोजाना पूजा करने से घर के सदस्यों में चल रहे मनमुटाव दूर हो जाते हैं.
  4. तुलसी का पौधा रसोईघर के पास रखने से घर के सदस्यों में सामंजस्य बढ़ता है. पारिवारिक प्रेम और सद्भाव में वृद्धि होती है.
जानिए क्या है आज का पंचांग, शुभ-अशुभ मुहूर्त
यात्रियों के लिए इस दिन खुलेंगे श्री हेमकुंड साहेब के कपाट, तैयारियां हुई शुरू

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …