पांडवों ने करवाया था शनिदेव के इस मंदिर का निर्माण, आज भी जलती अखंड ज्योति

हिन्दू धर्म में जहां एक तरफ शनिदेव को न्याय का देवता माना जाना है वहीँ दूसरी तरफ शनिदेव के द्वारा दिए गए दंड से सभी लोग डरते भी हैं. वैसे तो हमारे देश में शनि देवता के कई मंदिर मौजूद हैं लेकिन हमारे देश में शनि देवता का एक ऐसा मंदिर भी है, जो करीब 7000 फुट की उंचाई पर बना है और इस मंदिर में सैकड़ों सालों से एक अखंड ज्योति आज भी जल रही है. ऐसी भी मान्यता है कि इस मंदिर में हर साल कोई न कोई चमत्कार अवश्य होता है. आइए जानते हैं इस शनि मंदिर के बारे में विस्तार से. उत्तराखंड में 7000 फुट की उंचाई पर बना है शनि देवता का यह मंदिरशनि देवता का यह मंदिर हमारे देश के देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड के खरसाली में बना हुआ है. इस मंदिर को शनिदेव धाम कहा जाता है. ऐसा भी कहा जाता है कि भगवान शनि यहां पर साल के 12 महीने विराजमान रहते हैं. पांडवों ने करवाया था इस मंदिर का निर्माणऐसी मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने करवाया था. शनिदेव का यह मंदिर वैसे तो पांच मंजिला है लेकिन बाहर से देखने पर यह पांच मंजिला नहीं दिखाई देता है. इस मंदिर का निर्माण पत्थर और लकड़ी से किया गया है. अखंड ज्योति के दर्शन मात्र से ही दूर होते हैं जीवन के सारे कष्टइस शनि धाम मंदिर में शनिदेव की कांस्य की मूर्ति विराजमान है और साथ ही एक अखंड ज्योति भी जल रही है. ऐसा माना जाता है कि मंदिर की अखंड ज्योति के दर्शन मात्र से ही जीवन के सारे कष्टों से मुक्ति मिल जाती है और मंदिर में शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करने से व्यक्ति को कुंडली के शनि दोष से भी छुटकारा मिल जाता है. यहां साल में एक बार अवश्य होता है चमत्कारस्थानीय लोगों के मुताबिक इस मंदिर हर साल कार्तिक पूर्णिमा के दिन एक चमत्कार होता है. जिसके तहत मंदिर के ऊपर रखे घड़े खुद ही बदल जाते हैं. इस दिन जो कोई भी शनि मंदिर में दर्शन के लिए आता है उसके सभी कष्ट दूर हो जाते हैं.
होली पर देवी-देवताओं को उनकी पसंद के अनुसार लगाए गुलाल, जानिए...
होली पर पीली सरसो से करे ये उपाय, जीवन में सुख-समृद्धि का होगा प्रवेश

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …