क्या है आज का पंचांग, जानिए शुभ और अशुभ मुहूर्त

आज के समय में लोग अपने दिन की शुरुआत पंचांग देखकर करते हैं क्योंकि इससे शुभ-अशुभ मुहूर्त का ज्ञान हो जाता है। तो आज हम आपके लिए लेकर आए हैं आज का यानी 16 अप्रैल का पंचांग। आज चैत्र नवरात्रि का चौथा दिन है, तो जानिए पंचांग।

16 अप्रैल का पंचांग-

सूर्य उत्तरायण, उत्तर गोल, वसन्त ऋतु। राहुकाल पूर्वाह्न 10 बजकर 30 मिनट से 12 बजे तक। चतुर्थी तिथि सायं 06 बजकर 06 मिनट तक उपरांत पंचमी तिथि का आरंभ।

रोहिणी नक्षत्र 11 बजकर 40 मिनट तक उपरांत मृगशिरा नक्षत्र का आरंभ, सौभाग्य योग सायं 06 बजकर 23 मिनट तक उपरांत शोभन योग का आरंभ। विष्टि करण सायं 06 बजकर 06 मिनट तक उपरांत बव करण का आरंभ। चन्द्रमा दिन रात वृष राशि पर संचार करेगा।

आज के व्रत त्योहार : नवरात्र का चौथा व्रत, मां कूष्‍मांडा की पूजा

सूर्योदय का समय 16 अप्रैल : सुबह 05 बजकर 55 मिनट पर

सूर्यास्त का समय 16 अप्रैल : शाम 06 बजकर 47 मिनट पर

आज का शुभ मुहूर्तः अभ‍िजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 55 म‍िनट से 12 बजकर 47 मिनट तक। विजय मुहूर्त दोपहर 02 बजकर 30 मिनट से 03 बजकर 21 मिनट तक रहेगा। निशिथ काल रात्रि 11 बजकर 58 मिनट से 12 बजकर 43 मिनट तक। अमृत काल रात को 8 बजकर 3 मिनट से 9 बजकर 52 मिनट तक रहेगा। गोधूलि बेला शाम 06 बजकर 35 मिनट से 06 बजकर 59 मिनट तक रहेगा। रवि योग सुबह 5 बजकर 55 मिनट से रात को 11 बजकर 40 मिनट तक रहेगा। ब्रह्म मुहूर्त अगले दिन सुबह 4 बजकर 25 मिनट से 5 बजकर 9 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः राहुकाल सुबह 10 बजकर 30 म‍िनट से 12 बजे तक। सुबह 7 बजकर 30 म‍िनट से 9 बजे तक गुलिककाल रहेगा। दोपहर 3 बजकर 30 मिनट से 4 बजकर 30 म‍िनट तक यमगंड रहेगा। दुर्मुहूर्त काल सुबह 8 बजकर 29 म‍िनट से 9 बजकर 21 म‍िनट तक। इसके बाद दोपहर में 12 बजकर 47 म‍िनट से 1 बजकर 38 म‍िनट तक। भद्रा अगले दिन सुबह 5 बजकर 55 मिनट से शाम को 6 बजकर 5 मिनट तक।

आज इस पूजा विधि से माँ कुष्मांडा की करें पूजा, जानिए कथा
आइये जानते है नवरात्रि में कितनी देवियों की होती है पूजा, जानिए...

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …