क्या आप जानते हैं श्राद्ध का इतिहास

वेदों के पितृयज्ञ को ही पुराणों में काफी विस्तार मिला है और उसे ही श्राद्ध का नाम दिया गया है. जी हाँ, पितृपक्ष तो आदिकाल से ही रहता आया है, लेकिन जब से इस पक्ष में पितरों के लिए श्राद्ध करने की परंपरा का प्रारंभ हुआ तब से अब तक इस परंपरा में कोई खास बदलाव नहीं हुआ और यह परंपरा भी आदिकाल से आरम्भ हो गई है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि श्राद्ध की परंपरा आखिर किसने और कब शुरू…? जी दरअसल इस संबंध में विद्वानों में मतभेद हैं, लेकिन महाभारत के अनुशासन पर्व में एक कथा आती है जिसमें श्राद्ध करने की परंपरा का बताया जाता है.

जी हाँ, इस पर्व में भीष्म पितामह युधिष्ठिर को श्राद्ध पर्व के बारे में बताते हैं और महाभारत के मुताबिक़, ”सबसे पहले श्राद्ध का उपदेश महर्षि निमि ने अत्रि मुनि को दिया था। महर्षि निमि संभवत: जैन धर्म के 22वें तीर्थंकर थे। इस प्रकार पहले निमि ने श्राद्ध का आरंभ किया, उसके बाद अन्य महर्षि भी श्राद्ध करने लगे। श्राद्ध का उनके द्वारा उपदेश देने के बाद श्राद्ध कर्म का प्रचलन प्रारंभ हुआ और धीरे धीरे यह समाज के हर वर्ण में प्रचलित हो गया।”

इसी के साथ ”महाभारत के युद्ध के बाद युधिष्ठिर ने कौरव और पांडव पक्ष की ओर से मारे गए सभी वीरों का न केवल अंतिम संस्कार किया था। जब श्रीकृष्ण ने कहा कि तुम्हें कर्ण का भी श्राद्ध करना चाहिए तब युधिष्ठिर ने कहा कि वह तो हमारे कुल का नहीं है तो मैं कैसे उसका श्राद्ध कर सकता हूं? उसका श्राद्ध तो उसके कुल के लोगों को ही करना चाहिए। इस उत्तर के बाद पहली बार भगवान श्रीकृष्ण ने यह राज खोला था कि कर्ण तुम्हारा ही बड़ा भाई है। यह सुनकर सभी पांडव सन्न रह गए थे।”

ऐसा लिखा हुआ है कि भगवान श्रीराम ने अपने पिता दशरथ का श्राद्ध किया था, जिसका उल्लेख रामायण में मिलता है और इसका मतलब यह कि महाभारत काल के पूर्व से ही श्राद्ध करने की परंपरा का प्रचलन चल रहा है हालांकि श्राद्ध की परंपरा वैदिक काल से ही करते आ रहे हैं.

जानिए 2019 में कब है श्री राम और माता सीता की शादी का पवित्र दिन
अपने पति से संतुष्ट नहीं रहती ऐसे पेट वाली महिलाएं

Check Also

भगवान शिव नामों के जाप करने से मिटेंगे सारे कष्ट, जानें क्या है इनका महत्व

भगवान शिव के न जाने कितने ही रूप व नाम हैं और हर नाम की …