बुधवार कों करें गणेश पूजन, हर इक्छा होगीं पूरी

आज कें बदलते परिवेश में लोंग अपनी परेशानियों कों लेकर हर दिन मानसिक तनाव सें गुजरतें हैं| वो जिन्दगी कों अच्छा बनाने कें लियें हर दिन प्रयत्न करतें हैं | इसकें बावजूद लोंग एक अच्छी और खुशहाल जिन्दगी नहीं पा पातें हैं | तथा उनकें मन में यहीं सवाल रहता हैं कि कमी कहाँ रह जाती हैं| जों उनकीं मेहनत कें अनुसार उन्हें फल नहीं मिलता हैं|

तो जवाब यें हैं कि आप कर्म तों कर रहें हैं किन्तु भगवान कों भूल जाते हैं | जिनका आपकी कामयाबी में एक बहुत बड़ा योगदान होता हैं आपकों मेहनत कें साथ-साथ भगवान का आशीर्वाद बहुत जरूरी हैं | कल बुधवार हैं बुधवार कों गणेश जी का दिन माना गयां हैं | इस दिन आप गणेश जी की पूजा करके उन्हें प्रसन्न कर सकतें हैं, तथा अपनीं हर इक्छाओं कों पूरा कर सकतें है |

गणेश जी की कृपा तथा उनकीं योग्यता का अंदाजा आप इसी बात सें लगा सकतें हैं कि स्वयं ब्रम्हा,विष्णु और महेश उनकीं पूजा करतें हैं |गणेश जी कों  सभी मनोरथ कों पूरा करनें वाला जाना जाता हैं,हर क्लेश कों दूर करने वाला तथा बुद्धि विवेक देने वालें भगवन कें रूप में जाना जाता हैं| यदि आपकी कुंडली में बुद्ध गृह अशुभ हैं तों आप गणेश जी की बुधवार कों विधि विधान सें पूजन करकें बुद्ध गृह कें अशुभ दोष कों भीं ख़त्म कर सकतें हैं |

बुधवार कों इस तरह करें गणेश जी का पूजन
श्रीगणेश को सिंदूर, चंदन, यज्ञोपवीत, दूर्वा, लड्डू या गुड़ से बनी मिठाई का भोग लगाएं। धूप व दीप लगाकर आरती करें|
बुधवार कें दिन इस मंत्र का जाप करें मनोकामना जल्दी पूरी होगी

मंत्र- प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम्।
तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयो: शिवाय।।
प्रातर्भजाम्यभयदं खलु भक्तशोकदावानलं गणविभुं वरकुञ्जरास्यम्।
अज्ञानकाननविनाशनहव्यवाहमुत्साहवर्धनमहं सुतमीश्वरस्य।।

आप हर बुधवार कों सुबह पूरे मन से पवित्र होकर किसी गणेश जी कें मंदिर में जाकर यें पूजन कर सकतें हैं,या फिर घर कें पूजा घर में हीं यें विधि कर सकतें हैं| बस पूजा घर एकांत में होना चाहियें जहा आपकी पूजा में कोई विघ्न न आयें| आप हर बुधवार कों इतना करें फिर देखे आपकी परेशानियाँ कैसें दूर जाती हैं आपसे|

ऐसे करे भगवान गणेश की पूजा सफल होंगे सारे काम
हिन्दू धर्म की आचरण संहिता

Check Also

चैत्र नवरात्रि की रामनवमी के अगले दिन है कामदा एकादशी, बन रहें हैं पूजा के सात शुभ मुहूर्त

सनातन धर्म में एकादशी का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है. मान्यता है कि एकादशी का …