बालरूप में भक्तों को देते हैं दर्शन

श्री महाबलि हनुमान जी। सप्त चिरंजीवियों में से एक श्री हनुमान जिनके नाम लेने से ही सारे कष्ट दूर होते हैं। यूं तो गंधमार्दन पर्वत पर इनका निवास माना गया है लेकिन ये अपने विराट और सूक्ष्म रूप के ही साथ जागृत स्वरूप में हर कहीं विराजमान रहते हैं। श्री महाबलि के इस देश में कई मंदिर हैं जहां वे प्राण प्रतिष्ठापित रहते हैं। श्री हनुमान के इन दरबारों में से एक बहुत ही जागृत स्थल है। श्री बाल विजय श्री हनुमान। जी हां, मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में श्री हनुमान जी का यह धाम है। इस धाम में भगवान श्री हनुमान बाल स्वरूप में हैं। जो कि अपने भक्तों को सुख – समृद्धि और विजय का वरदान देते हैं। इस मंदिर में हर समय श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है।

श्रद्धालु बड़े आदर और भक्तिभाव से मंदिर में दर्शन करते हैं। यहां श्रद्धालुओं द्वारा भगवान को गुड़, चने और चिरौंजी का भोग लगाया जाता है। श्रद्धालु यहां आकर दर्शन करते हैं तो फिर खाली हाथ नहीं जाते। उन्हें अलौकिक सुख की प्राप्ति भी होती है। इस दौरान श्रद्धालुओं को यहां होने वाले सुंदरकांड और हनुमान चालीसा पाठ का आनंद भी मिलता है। यहां मंगलवार को श्रद्धालु हनुमान चालिसा भी पढ़ते हैं। हनुमान अष्टमी और हनुमान जयंती पर मंदिर में भव्य उत्सव होता है और श्रद्धालुओं को प्रसादी का वितरण होता है इसी के साथ हनुमान जी की भव्य शोभा यात्रा भी निकाली जाती है।

जानिए भगवान शिव के प्रिय सर्प कुल के बारे में
इस तरह करे मूषकधारी की वंदना, होगी परेशानियां दूर

Check Also

तो इस माला से मंत्र का जाप करना होता है लाभकारी

ईश्वर की आराधना में मंत्रों के जाप का विशेष महत्व है. वहीं देवी-देवताओं को प्रसन्न …