शनि का टेढ़ी नजर आप पर पड़ने का यह भी हो सकता है कारण

ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक शनिदेव की टेढ़ी नजर को बहुत ही बुरा माना जाता है। भगवान् शनि की अशुभ छाया से आर्थिक, मानसिक और शारीरिक परेशानियां आने लगती है। शनि 24 जनवरी को राशि बदल रहा है। यह धनु से मकर राशि में प्रवेश कर सख्त है। शनि जब-जब राशि बदलता है तो कुछ राशियों पर शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाती है तो कुछ के ऊपर से उतर भी जाती है। 24 जनवरी से शनि के राशि परिवर्तन से कुंभ राशि पर साढ़ेसाती शुरू हो रही है। इसके अलावा वृश्चिक राशि पर चल रही साढ़ेसाती खत्म होगी। इसके अलावा वृष और कन्या राशि पर शनि की ढय्या खत्म हो सकती है और मिथुन-तुला राशि पर शनि का ढय्या शुरू हो जा सकती है । किसी जातक पर शनि की अशुभ छाया पड़ने का कारण न सिर्फ शनि के एक राशि से दूसरी राशि में गोचर से होता है बल्कि इसकी और भी वजहें हो सकती हैं।

मान्यताओं के मुताबिक शनि अपने पिता सूर्य से बैर रखते हैं। शनि के इस व्यवहार के पीछे कथा छिपी हुई है। इसलिए शनि की पूजा में कभी भी तांबे के बर्तनों का उपयोग नहीं करना चाहिए। असल में तांबा सूर्य की धातु मानी गई है। भगवान्की शनि पूजा में लोहे के बर्तनों का ही उपयोग करना चाहिए। लोहे के बर्तन के अलावा मिट्टी के दीपक में तेल डालकर शनिदेव को अर्पित किया जाना चाहिए। शनिदेव की पूजा करते समय कभी भी उन्हें लाल चीजें नहीं चढ़ानी चाहिए जैसे लाल कपड़ा, लाल फूल और फल। लाल रंग का संबंध मंगल ग्रह से होता है और मंगल शनि के शत्रु हैं। इस गलती की वजह से भी आप पर शनि भारी हो सकता है। शनि को प्रसन्न करने के लिए काले और नीले रंग की चीजें चढ़ानी चाहिए।

भगवान् शनि देव की पूजा करते समय दिशा का विशेष ध्यान देना चाहिए। शनिदेव पश्चिम दिशा के स्वामी माने गए हैं ऐसे में इनकी पूजा करते समय आपका मुंह पश्चिम दिशा होना चाहिए। ऐसा न करने से भी शनि की अशुभ छाया आप पर पड़ती है। कभी भी शनिदेव की प्रतिमा के सामने उनकी आंखों में आंखे डालकर दर्शन नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि शनि की नजर जिस किसी पर पड़ती है उसका अनिष्ट होना शुरू हो जाता है। शनि की पूजा करते समय साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। झूठे मुंह या गंदे कपड़े पहनकर पूजा करने से भी शनि की अशुभ छाया पड़ सकती है। शनिदेव को न्यायाधीश और कर्मदाता का दर्जा मिला हुआ है। जो लोग अक्सर गरीबो और असहायों को पीड़ा पहुंचाते हैं शनि की अशुभ छाया उन पर शुरू हो जाती है।

ऐसा मंदिर जहा भगवान गणेश की हैं 3 आंखे, भक्त चिठ्ठी लिख कर बताते हैं मन की बात
भारत का ऐसा इकलौता मंदिर जो ग्रहण के सूतक में भी रहता है खुला

Check Also

तो इस माला से मंत्र का जाप करना होता है लाभकारी

ईश्वर की आराधना में मंत्रों के जाप का विशेष महत्व है. वहीं देवी-देवताओं को प्रसन्न …