जाने क्यों अपनी ही माता का वध किया था परशुराम ने…

परशुराम जी के पिता का नाम जमदग्नि तथा माता का नाम रेणुका था| परशुराम जी के चार बड़े भाई थे| सब भाईयों में परशुराम जी ही सबसे अधिक गुणी तथा बुद्धिमान थे| भगवान परशुराम को विष्णु जी का आवेशावतार माना जाता है|

एक दिन परशुराम जी की माता रेणुका हवन हेतु गंगा तट पर जल लेने गयी| वहां पर उन्होंने गन्धर्वराज चित्ररथ को अप्सराओं के साथ विहार करते हुए देखा और वह उन्हें देखकर मगन हो गयी और कुछ देर तक वहीं रुक गयीं| जब तक वह वापिस पहुंची तब तक हवन काल व्यतीत हो चूका था|

इस बात से मुनि जमदग्नि बहुत क्रोधित हुए और इस क्रोध में उन्होंने अपनी पत्नी को दंड दे डाला| उन्होंने अपनी पत्नी के आर्य मर्यादा विरोधी आचरण एवं मानसिक व्यभिचार करने के दण्डस्वरूप सभी पुत्रों को माता रेणुका का वध करने की आज्ञा दी| परन्तु परशुराम जी के अलावा अपनी माता के मोहवश कोई भी पुत्र ऐसा करने के लिए आगे नहीं आया| पुत्रों द्वारा आज्ञा न मानने पर मुनि ने उन्हें श्राप दे दिया कि उनकी विचार शक्ति नष्ट हो जाए|

अपने पिता की आज्ञा का पालन करते हुए परशुराम जी ने अपनी माता का शिरोच्छेद कर दिया| परशुराम द्वारा आज्ञा का पालन करने पर मुनि जमदग्नि अत्यंत प्रसन्न हुए और उन्होंने परशुराम को वर मांगने के लिए कहा|

परशुराम जी ने अपने पिता से तीन वरदान मांगे| पहले वरदान में उन्होंने माता को पुनर्जीवित करने के लिए निवेदन किया| दूसरे वर में उन्होंने कहा कि माता को मरने की स्मृति न रहे और तीसरे वर में उन्होंने कि उनके भाई चेतना-युक्त हो जाएँ|

मुनि जमदग्नि ने परशुराम जी को यह तीनो वर दे दिए| माता तो पुनः जीवित हो गई पर परशुराम पर मातृहत्या का पाप चढ़ गया|

मातृहत्या के पाप से मुक्त होने के लिए परशुराम जी ने राजस्थान के चितौड़ जिले में स्तिथ मातृकुण्डिया नामक स्थान पर भगवान शिव की तपस्या की| तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने परशुराम जी को मातृहत्या के पाप से मुक्ति पाने के लिए  मातृकुण्डिया के जल में स्नान करने के लिए कहा| ऐसा करने से उनका पाप धुल गया| जहां परशुराम जी ने स्नान किया, उस जगह को मेवाड़ का हरिद्वार भी कहा जाता है| यह स्थान महर्षि जमदग्नि की तपोभूमि से लगभग 80 किलो मीटर दूर है|

सभी कष्टों के निवारण का है एक मात्र ये... अचूक उपाय
बस एक दौड़ते हुए घोड़े की तस्वीर... बदल सकती है आपकी पूरी तक़दीर

Check Also

सोमवार के दिन इस आरती से करें भोलेनाथ को खुश

कहा जाता है हर सोमवार के दीं शिवजी की आरती गानी चाहिए क्योंकि इसे सुनने …