आज साल के आखिरी चतुर्थी पर गणेश महामंत्र का करें जाप

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, इस वर्ष की आखिरी विनायक चतुर्थी 27 फरवरी दिन गुरुवार को है। हर मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी 27 फरवरी को है, इस दिन गणेश जी विधि विधान से पूजा करें। फाल्गुन मास हिन्दू कैलेंडर का आखिरी यानी 12वां मास है, इसलिए इस मास की विनायक चतुर्थी इस वर्ष की आखिरी विनायक चतुर्थी है। इस दिन गणेश जी के महामंत्र का जाप करने से व्यक्ति को जीवन में सुख-समृद्धि के साथ सफलता की प्राप्ति होती है।

गणेश जी को पूजा में अर्पित करें से चीजें

विनायक चतुर्थी के दिन आपके पास समय की कमी है तो आपको ये पांच चीजें विघ्नहर्ता श्री गणेश जी को जरूर अर्पित करें। विघ्नहर्ता गणेश जी आपके जीवन की सभी बाधाओं का शमन कर देंगे, आप के कष्टों को हर लेंगे।

चतुर्थी के दिन सुबह स्नान आदि से निवृत होकर आप गणेश जी की पूजा करें। पूजा में उनको लाल फूल, केला, पान का पत्ता, सुपारी और दूर्वा अर्पित करें। इन पांच चीजों के अर्पित करने से भगवान गणेश प्रसन्न होंगे और आपकी मनोकामनाओं की पूर्ति करेंगे।

सुख-समृद्धि एवं सफलता के लिए गणेश महामंत्र

चतुर्थी के दिन गणेश जी की पूजा करते समय आप नीचे दिए गए गणेश महामंत्र का जाप करें, इससे आपके जीवन में सुख-समृद्धि आएगी। साथ ही आपको जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होगी। जो लोग निर्धन हैं, वे लोग अपने जीवन से दरिद्रता को दूर करने के लिए इस गणेश महामंत्र का जाप करें।

प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम्।

तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयो: शिवाय।।

प्रातर्भजाम्यभयदं खलु भक्तशोकदावानलं गणविभुं वरकुञ्जरास्यम्।

अज्ञानकाननविनाशनहव्यवाहमुत्साहवर्धनमहं सुतमीश्वरस्य।।

इस गणेश महामंत्र का जाप करने से पूर्व अपने मन को शांतिपूर्वक एकाग्र कर लेना चाहिए और गणपति का ध्यान करते हुए जाप करना चाहिए। इस मंत्र का एक माला जाप करें।

भगवान् गणेश जी को प्रसन्न करने के 5 आसान उपाय
यह होता है मूर्ति खण्डित होने का मतलब,जानिए उसके बाद क्या करना चाहिए

Check Also

4 जुलाई यानी आज से है आषाढ़ पूर्णिमा व्रत, जाने कथा और पूजा विधि

हिंदी पंचांग के अनुसार, वर्ष के प्रत्येक महीने में पूर्णिमा अथवा चतुर्दशी के दिन पूर्णिमा …